whatsapp-dp-shayari

Whatsapp DP Shayari

whatsapp dp shayari व्हाट्सएप डीपी फोटो & Images, Photos Shayari DP Collection डीपी के लिए फोटो HD Whatsapp DP Shayari व्हाट्सएप डीपी फोटो

Whatsapp DP Shayari

“हम रिश्तों को और अधिक बेहतरीन बना सकते है!

“अपनी सोच में छोटा सा बदलाव करके!

“कि सामने वाला गलत नही है!

“सिर्फ हमारी उम्मीद से थोड़ा अलग हैं !!!

dp-whatsapp-shayari

2

♥तू तो मेरी जान है, फ़िर क्यूँ

तेरी ही याद मेरी जान ले रही है♥

3

गलत फ़हमियों से भी ख़त्म हो जाते है रिश्ते…

हमेशा कसूर गलतियों का नहीं होता

4

दर्द सहने की अब कुछ यूँ आदत सी हो गयी है

कि अब दर्द न मिले तो दर्द सा होता है।

5

मुहब्बत जीत जाएगी अगर तुम मान जाओ तो..!!

मेरे दिल मैं तुम ही तुम हो अगर तुम जान जाओ तो…!!

Whatsapp DP Shayari

whatsapp dp shayari | व्हाट्सएप डीपी फोटो

dp-girl-for-whatsapp

6

समझ न सके उन्हें हम,

क्योकि हम प्यार के नशे में चूर थे.

अब समझ में आया जिसपे हम जान लुटाते थे,

वो दिल तोरने के लिए मशहूर थे.

व्हाट्सएप डीपी फोटो

7

इरादा था उनकी पहलू में अश्क बहानेका उनके बगैर ,

आंसुओं में बह गए हम ।।

8

क्या उम्मीद करें हम उनसे…

जिन को वफा मालूम नहीं…

गम देना मालूम है… मगर…

गम की दवा मालूम नहीं…

whatsapp dp shayari image

hindi-shayari-girl-whatsapp-dp

डीपी के लिए फोटो

9

अपनी ज़िंदगी भी उस चाँद की तरह हो गई हे।।

जो खूबसूरत तो हे।। पर हे अकेला।।

10

उसको चाहते रहेंगे यूँ उम्र गुजर जायेगी,

मौत आएगी और जिंदगी ले जायेगी,

मेरे मरने पे भी मेरे सनम को रोने न देना,

उसको रोते देख मेरी रूह तड़प जायेगी.

11

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं

जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं।

Latest Whatsapp DP Shayari

girl-sad-dp-whatsapp-shayari

12

मुस्तक़िल जूझना यादों से बहुत मुश्किल है

रफ़्ता रफ़्ता सभी घर बार में खो जाते हैं ।

13

इतना साँसोँ की रफ़ाक़त पे भरोसा न करो

सब के सब मिट्टी के अम्बार में खो जाते हैं ।

14

मेरी ख़ुद्दारी ने अहसान किया है मुझ पर

वरना जो जाते हैं, दरबार में खो जाते हैं ।

15

क्या क़यामत है कि सहराओँ में रहने वाले

अपने घर के दर-ओ-दीवार में खो जाते हैं ।

Whatsapp DP Shayari

16

कभी थकन के असर का पता नहीं चलता

वो साथ हो तो सफ़र का पता नहीं चलता

18

उलझ के रह गया सैलाब कुर्रए-दिल से

नहीं तो दीदा-ए-तर का पता नहीं चलता

उसे भी खिड़कियाँ खोले ज़माना बीत गया

मुझे भी शामो-सहर का पता नहीं चलता

19

वो करते हैं बात इश्क़ की,

पर इश्क़ के दर्द का उन्हें एहसास नहीं,

इश्क़ वो चाँद है जो दिखता तो है सबको,

पर उसे पाना सब के बस की बात नही.

24

तुम चल पड़े हो जिनपे उन राहों को देखिये,

जो मुन्तजिर हैं फैली, उन बाहों को देखिये.

दिखते हैं जमाने के हसीं मंजर तुम्हें तमाम,

जो देखती हैं तुमको उन निगाहों को देखिये।

25

जिस हुश्ने-बेमिशाल ने रख दी उड़ा के नींद,

आज आ के हुश्न की उन अदाओं को देखिये.

घुलतीं जो कानों में कभी शहद के मानिन्द,

अब दूर से आती हैं उन सदाओं को देखिये।

26

तेरी तो फितरत थी सबसे मोहब्बत करने की,

हम तो बेवजह खुद को खुशनसीब समझने लगे|

भरे बाज़ार से अक्सर मैं खाली हाथ लौट आता हूँ..

पहले पैसे नहीं हुआ करते थे, अब ख्वाहिशें नहीं रहीं…

27

अय खुदा बस इतनी सी दुआ है तुझसे…..

जिस दिन मै हार जाऊ तो जितने वाले से ज्यादा चर्चा पाऊ

हर बाजी हार कर भी उस हार का मज़ा जीत से भी ज्यादा पाऊ……

28

जब कुछ नहीं रहा पास तो….

रख ली तन्हाई संभाल कर मैंने..

ये वो सल्तनत है…

जिसके बादशाह भी हम…

वज़ीर भी हम फक़ीर भी हम..!!!!

29

मुझे किसी ने पूछा दर्द की कीमत क्या है..

मैने कहा मुझे नहीं पता लोग तो मुझे मुफ्त में दे जाते है..

30

मत सोच की तेरा सपना क्यों पूरा नहीं होता,

हिम्मत वालो का इरादा कभी अधुरा नहीं होता,

31

जिस इंसान की नियत और कर्म अच्छे होते है,,,

उस के जीवन में कभी अँधेरा नहीं होता..

व्हाट्सएप डीपी फोटो

32

“इस कदर हम यार को मनानॆ निकलॆ,

उसकी चाहत के हम दीवाने निकलॆ,

जब भी उसॆ दिल का हाल बताना चाहा,

तो उसकॆ होंठों से वक्त ना होनॆ के बहानॆ निकलॆ …”

33

ना अब फरियाद करता हूँ ,

ना मैं अंश्क़ पीता हूँ मौहब्बत में ,

ये हालत है ना मरता हूँ ना जीता हूँ

Read More: sher o shayari