virodhiyon-ke-liye-shayari
virodhiyon ke liye shayari

विरोधियों के लिए शायरी Status Quotes Messages

विरोधियों के लिए शायरी Status Quotes Messages Virodhiyon Ke Liye Shayari Hindi ऊँचा उड़ने की हमने ठान ली है, विरोधियों की औक़ात जान ली है काटने वाले क्या काटेगा पंख हमारे, हमने तो हौसलों से उड़ान ली है

विरोधियों के लिए शायरी

virodhiyon-ke-liye-shayari-hindi

virodhiyon ke liye shayari Hindi

विरोधियों ने ठान रखी है मुझे गिराने की
क्योंकि दूरी बहुत है अभी मेरे निशाने की
फिर भी मुझ तक पहुँचना मुमकिन नहीं
क्योंकि ऊंचाई इतनी है मेरे ठिकाने की

मेरे विरोधीयों कान खोल कर सुन लो
हरा नहीं पाओगे मुझे तुम, कोई और खेल चुन लो

अपने उसूलों के आगे दुश्मन चकनाचूर हो जाते हैं
विरोधी भी स्वीकारने को मजबूर हो जाते हैं
जिसमें अकेला खड़ने की हिम्मत होती है
उसके कारनामें विरोधियों में मशहूर हो जाते हैं

खेल में मज़ा तभी आता है,
जब विरोधीयों में दम होता है
सामने कमज़ोर विरोधी हो तो
खेल में मज़ा भी कम आता है

हर बार दुगनी ताकत से आते हैं
और हर बार ही ये मुँह की खाते हैं
मुकाबले की विरोधियों की औकात नहीं
मगर हरकतों से अपनी ये बाज कहाँ आते हैं

 हुनर देख हमारा विरोधी परेशान है
टकराता देख तूफ़ानों से सब हैरान है
कह दो हमारे विरोधियों से वो क्या करेंगे
हमारा मुकाबला जिनके हौंसले ही बेजान है

 ऊँचा उड़ने की हमने ठान ली है
विरोधियों की औक़ात जान ली है
काटने वाले क्या काटेगा पंख हमारे
हमने तो हौसलों से उड़ान ली है

मेरे विरोधियों से कह दो
आज़मा लो जितनी ताक़त है
मेरी बराबरी तुम कर नहीं पाओगे
तुम्हारे पास कहां इतनी लियाकत है

हौसलों में अपने गज़ब की सुनामी है
विरोधियों की नींद उड़ना लाज़मी है
छूने को आसमां अभी पंख खोले ही और
पैरों तले दुश्मनों की खिसक गई ज़मीं है

चलता रहूँगा पथ पर
विरोधियों को धूल चटाता रहूँगा
कुचलकर नफ़रत के कांटों को
प्यार के फूल उगाता रहूँगा

विरोध के नाम पर जो ज़हर उगलते हैं
उनकी नफ़रत की आग से शहर सुलगते हैं
इन विरोधियों को सबक सिखाना ही होगा
जो विकास की गाड़ी को नहर में धकेलते हैं

 छूकर हमको कहीं ख़ाक मत हो जाना
ज़िंदगी का हादसा दर्दनाक मत हो जाना
विरोधियों जरा सोच समझकर टकराना
हमारे हौसलों के बारूद की खुराक़ मत हो जाना

 हमारे विरोधियों से कह दो
जो जीने का शौक़ नहीं रखते हैं
वो ही हमारे विरोध की औक़ात रखते हैं

विचारधारा के बिना हमारा क्या विरोध करेंगे
हमारे विरोधियों से कहो पहले विचारशील बनो
बातों में तर्क होगा तभी हम भी वितर्क करेंगे

जब से जाना है मेरे बारे में तब से
विरोधियों में खलबली मची है
सोच रहे हैं जितनी जी ली ज़िंदगी
वही अच्छी है

कामयाबी से जब हमारे नाम जुड़ेंगे
टकराकर पीछे हमसे ये तूफ़ान मुड़ेंगे
है यक़ीन हमको ख़ुद पर तो इतना
हमें देखकर विरोधियों के होश उड़ेंगे

अकेला ही भीड़ में बेख़ौफ़ खड़ा है
विरोधियों में इस बार ख़ौफ़ बड़ा है
मिलाना आकर नज़रों से नज़र
जिसको भी हारने का शौक़ चढ़ा है

 विरोधियों ने सारी हदें पार कर दी है
देश की सारी इज्ज़त तार-तार कर दी है
जनता इस बार उनको माफ़ नहीं करेगी
जिन्होंने मज़हबों के बीच दीवार कर दी है

विकास के पथ का अवरोध जायज़ नहीं
करना यूँ बात बात पर क्रोध जायज़ नहीं
विचारों को विचारों से मात दीजिए
सिर्फ़ विरोध के लिए विरोध जायज़ नहीं

विकास के पथ का अवरोध जायज़ नहीं
करना यूँ बात बात पर क्रोध जायज़ नहीं
विचारों को विचारों से मात दीजिए
सिर्फ़ विरोध के लिए विरोध जायज़ नहीं