Best 2500+ sher o shayari With Images 2020

sher o shayari Best Latest Hindi Sher o Shayari Images (हिंदी शेर-ओ-शायरी) New collection of Romantic Hindi  status, New Hindi Sms, two line shayari pics, 2020

Sher o Shayari

तुम्हारे प्यार में हम बैठें हैं चोट खाए!

जिसका हिसाब न हो सके उतने दर्द पाये!

फिर भी तेरे प्यार की कसम खाके कहता हूँ!

हमारे लब पर तुम्हारे लिये सिर्फ दुआ आये!

Sher o Shayari

हर वक़्त तेरे आने की आस रहती है!

हर पल तुझसे मिलने की प्यास रहती है!

सब कुछ है यहाँ बस तू नही!

इसलिए शायद ये जिंदगी उदास रहती है!

Sher o Shayari

प्यार को कमज़ोरी नहीं ताकत बनाओ
रिश्तो को मज़बूरी नहीं इबादत बनाओ
ज़िंदगी सिर्फ जीने से क्या होगा
हर पल हर लम्हे को अपनी कोशिश से जन्नत बनाओ …

Sher o Shayari

प्यार क्या होता है हम नहीं जानते,

ज़िन्दगी को हम अपना नहीं मानते,

गम इतने मील के एहसास नहीं होता,

कोई हमें प्यार करे अब विश्वास नहीं होता.

Sher o Shayari

कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है

मुस्कुराने के लिए भी रोना पड़ता है

यूं ही नहीं होता है सवेरा सुबह होने के लिए रात भर सोना पड़ता है!

शुभ रात्री !! गुड नाईट !!!

Sher o Shayari

प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता!

ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता!

दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की!

उस के बिना जिया नहीं जा सकता!

Sher o Shayari

प्यास अगर शराब की होती…

तो ना आता तेरे मैखाने मे….:

ये जो तेरी नज़रो का जाम है

कम्बख्त कही और मिलता ही नही…….

Sher o Shayari

हम तो बिछडे थे तुमको अपना अहसास दिलाने के लिए,

मगर तुमने तो मेरे बिना जीना ही सिख लिया…!!

Sher o Shayari

ना वादा है और ना कोई क़समें है….

फिर भी यह दिल तेरी ही मोहब्बत के बस में है..

Sher o Shayari

वो कहती हैं तुम छोड क्यों नही जाते इतनी तकलीफ देती हुं तो….

मैंने कहा साँस लेने में उलझन आए तो क्या जीना हीं छोड दूँ…..

मुझे बहुत प्यारी है, तुम्हारी दी हुई हर एक निशानी…

चाहे वो दिल का दर्द हो या आँखों का पानी….

Sher o Shayari

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है!

दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है!

कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है!

कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है!

Sher o Shayari

एक दिन आख़िर महल को तो खंडर होना ही था

ख़्वाहिशें थी ख्वाहिशों को दरबदर होना ही था

हाथो की लकीरों के फरेब में मत आना,

ज्योतिषो की दूकान पर मुक्कदर नहीं बिकते ।

Sher o Shayari

कितना भी समेट लो.. हाथों से फिसलता ज़रूर है..

ये वक्त है साहब.. बदलता ज़रूर है..

Sher o Shayari

तुम्हारी आँखों में बसा है आशियाना मेरा,

अगर ज़िन्दा रखना चाहो तो कभी आँसू मत लाना।

Sher o Shayari

दिल में बसे हो जरा ख्याल रखना

अगर वक़्त मिलजाए तो याद करना

हमें तो आदत है तुम्हें याद करने की

तुम्हें बुरा लगे तो माफ़ करना

Sher o Shayari

कभी थक जाओ तुम दुनियाँ की महफिल से,

हमे आवाज दे देना,हम अक्सर अकेले होते है !!

Sher o Shayari

प्यार ना दिल से होता है ना दिमाग से होता है,

प्यार तो इत्तेफ़ाक़ से होता है,

मगर प्यार करके प्यार ही मिले

ये इत्तेफ़ाक़ भी किसी किसी के साथ होता है।

Sher o Shayari

जिन्दगी में आप जो करना चाहते है,

वो जरूर कीजिये, ये मत सोचिये कि लोग क्या कहेंगे.

क्योंकि लोग तो तब भी कुछ कहते है,

जब आप कुछ नहीं करते.”

Sher o Shayari

सभी इन्सान है,मगर सिर्फ फर्क इतना है,

कुछ जख्म भरते है कुछ जख्म देते !!

Sher o Shayari

प्यार सभी करते है,मगर फर्क सिर्फ इतना है,

कुछ जान देते है,कुछ जान लेते है !!

Sher o Shayari

दोस्ती सभी करते है ,

मगर फर्क सिर्फ इतना है,

कुछ दोस्ती निभाते है,

कुछ आजमाते है !!

Sher o Shayari

मुझ से दूरियां बना कर तो देखो,,

फिर पता चलेगा कितना नज़दीक़ हूँ मै.

काश के कभी तुम समझ जाओ,

मेरी मोहब्बत की इन्तेहा को,

Sher o Shayari

हैरान रह जाओग तुम अपनी खुशकिस्मती पे !!!

तेरी एक निगाह की बात है ….

मेरी जिंदगी का सवाल है…

मेरी शाम है, तेरी जुस्तजू ….

मेरी सुबह, तेरा ख्याल है …..

Sher o Shayari

हम एक तरफा प्यार की कहानी में मरे हैं।

ये मोहब्बत ही है जो हम जवानी में मरे है।।

Sher o Shayari

करके बड़े बड़े वादे तोड़ गई वो,

समझ ही नहीं आया की माशुका थी या सरकार…

बंध जाता हे जब किसी से रूह का बन्धन……

तो इजहार ए मुहब्बत को अल्फाजो की जरुरत नहीं होती

Sher o Shayari

ना जाने क्यूँ अधूरी सी लगती है ज़िन्दगी मेरी लगता है

जैसे खुद को किसी के पास भूल आया हूँ

क्यूँ सताते हो मुझे यूँ दुरियाँ बढ़ाकर,

क्या तुम्हे मालूम नहीं अधूरी हो जाती है तुझ बिन जिन्दगी…

Sher o Shayari

तेरे साथ की कहा जरूरत है

हम तो तेरी आवाज से ही खुश हो जाते है

साथ उन्हे चाहिये जो अधुरे हो

हम तो तेरी आहट से ही पुरे हो जाते है…

Sher o Shayari

कौन यहाँ किसको अपने दिल में जगह देता है

हुज़ूर मतलब निकल जाए तो हर कोई भूला देता है

हमे मत समझाओ वाकिफ हैं हम दुनिया के रिवाजों से

अजी पेड़ भी सूखे पत्तों को गिरा देता है

Sher o Shayari

वो कह के चले इतनी मुलाकात बहुत है

हमने कहा रूक जाओ अभी तो रात बहुत है

आंसू मेरे थम जाये तो शौक से चले जाना ऐसे

में कहा जाओगे अभी बरसात बहुत है

Sher o Shayari

दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं

जैसे तूफान में किनारे मुश्किल से मिलते हैं

अजी मिलने को तो बहुत मिल जाते हैं गोरे गाल

लेकिन गोरे गाल पर तिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं

Sher o Shayari

निशाते हाल से बे फिक्रे मुस्तकबिल ना हो जाना,

खुद अपने हाथ अपनी ज़ात के क़ातिल ना हो जाना,

Sher o Shayari

कभी दामने-साहिल में भी क़श्ती डुब जाती हे,

निकल कर हल्का ऐ गर्दाब से गाफिल ना हो जाना,

Sher O Shayari On Love

Sher o Shayari

वक़ारे-ज़ात का इतना भरम रखना मोहब्बत मे,

करम की हद से बढ के रहम के क़ाबिल ना हो जाना,

Sher o Shayari

नज़र तो जुस्तुजू मे खुद हिजाबे जल्वा होती हे,

कहीं राहे तलब मे बेनियाज़े दिल ना हो जाना,

Sher o Shayari

तेरी हस्ती ना जब तक मुन्फरिद एक ज़ात बन जाऐ,

हुजुमे कारगाहे दहर मे शामिल ना हो जाना,

Sher o Shayari

बज़ुज़ हुस्ने नज़र “बज़्मी” नही कुछ भी पसे पर्दा ,

खुदा रा बन्दा ऐ नेरंगीऐ महमिल ना हो जाना……..

Sher o Shayari

अजब जुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पर..

सो जाऊँ तो उठा देती हैं जाग जाऊँ तो रुला देती हैं..

Sher o Shayari

भरी महफ़िल में कर रहे थे वो ज़िक्र अपनी वफ़ा का..

नज़र मुझ पर क्या पड़ी कमबख्त ने बात ही पलट दी..

Sher o Shayari

ज़रूरी काम है लेकिन ..,,

रोज़ाना भूल जाता हूँ

मुझे तुम से मोहब्बत है ..,,

बताना भूल जाता हूँ

Sher o Shayari

तेरी गलियों में फिरना

इतना अच्छा लगता है

मैं रास्ता याद रखता हूँ

ठिकाना भूल जाता हूँ.

Sher o Shayari

उम्र खासी तुझे छूलेने की कोशिश मे कटी !!

जो बची खुद से न छू पाने की पुर्शिस मे कटी !!

जो भी आए हॆ नज़दीक ही बेठे हॆ तेरे..!

हम कहाँ तक तेरे पहलू से सरकते जाएँ…!!*

Sher o Shayari

तेरे होंठो को छू-छू कर गुजर जाऊं मैं…

काश कही हुई तेरी, हर बात बन जाऊं मैं…

Sher o Shayari

जुर्म किसका था मिली किसको सज़ा रहने दो,

किसको होना था हुआ कौन रिहा रहने दो..

दफ़्न मुझमें हैं कई ख़्वाब अज़ल से लेकिन,

मेरी आँखों में उम्मीदों का दिया रहने दो..

ज़िंदगी मेरी किसी और के हिस्से की थी,

किसके हाथों से मिली मुझको क़ज़ा रहने दो..

खो न जाऊँ मैं कहीं भीड़ भरी दुनिया में,

मेरा चेहरा है मेरा इसको मेरा रहने दो ..

दौर-ए-ग़र्दिश में मेरे दिल को तसल्ली मिलती,

उसकी चौखट पे मेरा सर ये झुका रहने दो..

जिस्म मिट्टी का लिए मैं हूँ पड़ा दरिया में,

मेरे होंठों पे मगर हर्फ़ ए दुआ रहने दो..

मैंने रक्खी ही कहाँ आस वफ़ा की इससे,

मुझसे दुनिया ये ख़फ़ा है तो ख़फ़ा रहने दो..

आबले पाँवों में चेहरे पे शिकन भी लेकिन.

मेरी धड़कन में नामे ख़ुदा रहने दो……….

Sher o Shayari

आते-आते मेरा नाम सा रह गया

उस के होंठों पे कुछ काँपता रह गया

वो मेरे सामने ही गया और मैं

रास्ते की तरह देखता रह गया

Sher o Shayari

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गये और

मैं था कि सच बोलता रह गया

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे

ये दिया कैसे जलता रह गया

Sher o Shayari

अपनी किश्ती के सहारे नहीं मांगा करते

गर्क हो जायें किनारे नहीं मांगा करते

मेरी गुर्बत मुझे फाका करे तो कर जाये

पर अमीरों से गुजारे नहीं मांगा करते

Sher o Shayari

हाथ फैलाने से अच्छा है कि सर कट जाये

अपनी गैरत के नजारे नहीं मांगा करते

दुश्मने दिल से भी खुद्दारियों की उम्मीदें

अपने कदमों में हम हारे नहीं मांगा करते

Sher o Shayari

मेरे इखलासो मुहब्बत ही मेरी दौलत है

हम अदाकार संवारे नहीं मांगा करते

ऐशो इशरत से है ईमान को खतरा लाजिम

अपने ईमां के बिगाड़े नहीं मांगा करते

Sher o Shayari

खात्मा खैर पे हो इस की दुआ करता हूं

नफ्स से कोई शरारे नहीं मांगा करते

बदनुमा दाग कफन में न कोई हो ‘

अखतर’ देहर किरदार के मारे नहीं मांगा करते

Sher o Shayari

देखकर पलकें मेरी …..कहने लगा कोई फक़ीर…..

इन पे बरख़ुरदार …..सपनो का वज़न कुछ कम करो…..

बोल नहीं रहा इसका मतलब ये नहीं की भूल गया हूँ मैं …

मुझे ये देखना है की तुझे मेरी याद कितनी आती है...

Sher o Shayari

तुझे तो गैरो की महफ़िलो

मे मुस्काना पड़ता है,

पर सोच तुझे देखकर हमे,

अपने दिल को कितना समझाना पड़ता है…”

Sher o Shayari

यदि कुँए में झुकने वाली बाल्टी बाहर आती है

तो भर कर कुछ ऐसा हि जीवन का गणित है

जो झुकता है वो पाता है दादागिरी तो हम

मरने के बाद भी करेंगे लोग पैदल चलेँगे और हम कंधो पर!

Sher o Shayari

टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता

इश्क़ में मरीज को आराम नहीं आता

ये बेवफा दिल तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता

के टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता ……..

Sher o Shayari

हर शाखे आरजू पे मुहब्बत का फूल है

देखें वफाऐ हुस्न से अब क्या नजूल है

Sher o Shayari

जब इश्क के सलीब पर दे डाली जिन्दगी

तब फिक्रे खैरे जान तो रखना फिजूल है

Sher o Shayari

गुन्चाऐ इश्क शोख मुहब्बत के आब से

नफरत का खार देना कहां का असूल है

Sher o Shayari

तूफाने हुस्न से है सफीनाऐ इश्क गर्क

साहिल का ऐतबार क्या किश्ती की भूल है

Sher o Shayari

बहार की थी मगर ,रुत वो हम पे भारी थी

तेरे बग़ैर कभी हम ने जो गुज़ारी थी

Sher o Shayari

फिर उसके बाद कभी भी बुरी नज़र न लगी

कि माँ ने ऐसी हमारी नज़र उतारी थी

Sher o Shayari

निहत्थे लोगों पे हमला बहादुरी है तो फिर

“वो जंग तुम भी न जीते जो हमने हारी थी”

Sher o Shayari

न जाने कब कोई अपना रुठ जाये

न जाने कबकोई अश्क आँखों से छूटजाये

कुछ पल हमारे साथभी मुस्कुरा लिया करो

ऐ दोस्त न जाने कब तुम्हारे दांत टूटजाये

Sher o Shayari

वो पल में बीते साल लिखूं

या सदियों लम्बी रात लिखूं..

मैं तुमको अपने पास लिखूं

या दूरी का एहसास लिखूं..

Sher o Shayari Hindi On 2020

Sher o Shayari

छुपा लूं तुझको अपनी बाँहों में इस तरह,

कि हवा भी गुजरने की इजाज़त मांगे;

मदहोश हो जाऊं तेरे प्यार में इस तरह,

कि होश भी आने की इजाज़त मांगे!

Sher o Shayari

तेरे होंठो को छू-छू कर गुजर जाऊं मैं…

काश कही हुई तेरी, हर बात बन जाऊं मैं…

Sher o Shayari

अगर सच में किसी का साथ ज़िन्दगी भर चाहते हो तो…!!

उसे कभी मत बताओ की तुम उससे कितना प्यार करते हो…

Sher o Shayari

दिल में बसे हो जरा ख्याल रखना

अगर वक़्त मिलजाए तो याद करना

हमें तो आदत है तुम्हें याद करने की

तुम्हें बुरा लगे तो माफ़ करना

Sher o Shayari

कभी तुम पूछ लेना कभी

हम भी जिक्र कर लेंगे,,,

छुपाकर दर्द दिल का

एक दूसरे की फ़िक्र कर लेंगे,,,

Sher o Shayari

मेरी धड़कनों की रवानगी तेरा ही नाम दोहराती है..!!

ये रहती है मेरे सीने में तेरी सिफारिश लगाती है..!!

Sher o Shayari

देखकर एड़ियाँ उस की

दिल में सवाल ही सवाल है

रुखसार का क्या हाल होगा…

जिसकी एड़ियाँ इतनी लाल है

Sher o Shayari

वो मेरी किस्मत में नहीं,

ये सुना है लोगों से,

फिर सोचता हूँ,

किस्मत खुदा लिखता है लोग नहीं

Sher o Shayari

खिड़की पे उतर आया चाँद तुम्हें सोते सोते जगा न दे

देख रही हो जो हसीन ख्वाब कहीं उनको मिटा न दे

कभी खड़ी न होना तुम खिड़की पे ज़ुल्फों को बिखराए बड़ी जालिम होती है

या बादेसबा ज़ुल्फों को उड़ा न दे

न देखा करो तुम सबकी तरफ यूं मदमस्त निगाहों से ही कहीं

कोई मनचला तेरे चेहरे पे अपनी निगाह गड़ा न दे

ये खतरे की बात नहीं है लेकिन फिर भी आगाह करता हूँ

कहीं तेरे बदन की कोई जुंबिश किसी पे नशा चढ़ा न दे

इतना हुस्न तुम्हें मिला है बोलो उसे लेकर तुम क्या करोगी

कभी कभी महफिल आ जावों सहर की दिल तुमको दुवा दे

Sher o Shayari

कहाँ पर बोलना है और कहाँ पर बोल जाते हैं।

जहाँ खामोश रहना है वहाँ मुँह खोल जाते हैं।।

Sher o Shayari

कटा जब शीश सैनिक का तो हम खामोश रहते हैं।

कटा एक सीन पिक्चर का तो सारे बोल जाते हैं।।

Sher o Shayari

नयी नस्लों के ये बच्चे जमाने भर की सुनते हैं।

मगर माँ बाप कुछ बोले तो बच्चे बोल जाते हैं।।

Sher o Shayari

बहुत ऊँची दुकानों में कटाते जेब सब अपनी।

मगर मज़दूर माँगेगा तो सिक्के बोल जाते हैं।।

Sher o Shayari

अगर मखमल करे गलती तो कोई कुछ नहीँ कहता।

फटी चादर की गलती हो तो सारे बोल जाते हैं।।

Sher o Shayari

हवाओं की तबाही को सभी चुपचाप सहते हैं।

च़रागों से हुई गलती तो सारे बोल जाते हैं।।

Sher o Shayari

बनाते फिरते हैं रिश्ते जमाने भर से अक्सर।

मगर जब घर में हो जरूरत तो रिश्ते भूल जाते हैं।।

Sher o Shayari

अपने वो नही होते जो तस्वीर में साथ खड़े होते हैं,

अपने वो हैं जो तकलीफ में साथ खड़े होते हैं.

Sher o Shayari

अमीरों के चेहरे पे कभी, मुस्कान नहीं होती …

गरीब के चेहरे पे कभी, थकान नहीं होती …

Sher o Shayari

सब कुछ खरीद सकती है, दौलत इस दुनिया में …

पर शुक्र है मुस्कुराहट, किसी की गुलाम नहीं होती …

Sher o Shayari

वफ़ा की ज़ंज़ीर से डर लगता है….

कुछ अपनी तक़दीर से डर लगता है….

जो मुझे तुझसे जुदा करती है….

हाथ की उस लकीर से डर लगता है…..

Sher o Shayari

उनकी ‘परवाह’ मत करो, जिनका ‘विश्वास’ “वक्त” के साथ बदल जाये.. ‘

परवाह’ सदा ‘उनकी’ करो; जिनका ‘विश्वास’ आप पर “तब भी” रहे’ जब आप का “वक्त बदल” जाये.

Sher o Shayari

ज़रा सी चोट को महसूस करके टूट जाते हैं !

सलामत आईने रहते हैं, चेहरे टूट जाते हैं !!

Sher o Shayari
पनपते हैं यहाँ रिश्ते हिजाबों एहतियातों में, बहुत बेबाक होते हैं वो रिश्ते टूट जाते हैं !!

Sher o Shayari

नसीहत अब बुजुर्गों को यही देना मुनासिब है,

जियादा हों जो उम्मीदें तो बच्चे टूट जाते हैं !!

Sher o Shayari

दिखाते ही नहीं जो मुद्दतों तिशनालबी अपनी, ,

सुबू के सामने आके वो प्यासे टूट जाते हैं !!

Sher o Shayari

समंदर से मोहब्बत का यही एहसास सीखा है,

लहर आवाज़ देती है किनारे टूट जाते हैं !!

Sher o Shayari

यही एक आखिरी सच है जो हर रिश्ते पे चस्पा है,

ज़रुरत के समय अक्सर भरोसे टूट जाते हैं

Sher o Shayari

चाहा है तुम्हें अपने अरमान से भी ज्यादा,

लगती हो हसीन तुम मुस्कान से भी ज्यादा,

मेरी हर धड़कन हर साँस है तुम्हारे लिए,

क्या माँगोगे जान मेरी जान से भी ज्यादा।

Sher o Shayari

ख़त्म कर दी थी जिंदगी की सारी खुशियाँ तुम पर,

कभी फुरसत मिले तो सोचना की मोहब्बत किसने की थी !!

Sher o Shayari

जाती है धुप उजले परो को समेट के ,

जख्म को अब गिनूगा मे बिस्तर पे लेट के !!

लोग समझते है हम बस तुम्हारे हुस्न पर मरते है।

अगर तुम भी यही समझते हो तो सुनो जब हुस्न ढल जाये तो लौट आना।।

Sher o Shayari

तमन्ना हो मिलने की तो,

बंद आँखों मे भी नज़र आएँगे,

महसूस करने की कोशिश तो कीजिए,

दूर होते हुए भी पास नज़र आएँगे !!

Sher o Shayari

आये हो तो कुछ देर तो ठहर जाओ इन आँखों में,

तुम्हे क्या पता एक उम्र लग जाती है एक ख्वाब सजाने में।।

Sher o Shayari

ज़रा सी बात होती है तो. तन्हा छोड़ जाते है, “

मोहब्बत कर के लोगो से. संभाली क्यों नही जाती …??

Sher o Shayari

यूँ मेरा बेवजह मुस्कुराना भी तेरे इश्क़ की ही बदौलत है

लोग यूँ ही कहते हैं कि मेरी हँसी खुदा की दी दौलत है।

Sher o Shayari

बेखुदी को उभार देती है गम की दुनिया सवार देती है

जाने क्या चीज है मोहब्बत भी जिंदगी को निखार देती है.

Sher o Shayari

वफा के बदले बेवफाई ना दिया करो..

मेरी उमीद ठुकरा कर इन्कार ना किया करो..

तेरी महोब्त में हम सब कुछ खो बैठे..

जान चली जायेगी इम्तिहान ना लिया करो

Sher o Shayari

गिर के संभलने के हुनर से हम भी वाकिफ थे,

गिरे फ़क़त इस वास्ते कि..

ठोकर तो उस पत्थर ने मारा जिसे हमने खुदा माना ।।

Sher o Shayari

वो करीब बहुत है…मगर कुछ दूरियों के साथ…,

हम दोनों जी तो रहे है…पर बहुत सी मजबूरीयों के साथ…।’

कोई कह दे गमो से , बाँध ले समान अब अपना…

बहुत दिन का तो रूका मेहमान भी अच्छा नही लगता…

Sher o Shayari

क्या फर्क है ? … दोस्ती और मोहब्बत मे ! ….रहते तो दोनो दिल मे हि है ! लेकिन,,….फर्क बस इतना है…

बरसो बाद ….मिलने पर…. मोहब्बत नजर चुरा लेती है… और दोस्त सीने से लगा लेते है…

Sher o Shayari

जज़्बात कहते हैं खामोशी से बसर हो जाए…

दर्द की ज़िद्द है कि दुनिया को खबर हो जाए…

Sher o Shayari

प्यार व्यार कुछ नही होता है !

जो जिसके ज्यादा करीब रहता है !

वो उसका हो जाता है !!

जिस दिन बंद कर ली हमने आंखें,

कई आँखों से उस दिन आंसु बरसेंगे,

जो कहते हैं के बहुत तंग करते है हम,

वही हमारी एक शरारत को तरसेंगे.

Sher o Shayari

बदलते हुऐ लोगो के बारे मे आखिर क्या कहुँ मे…..

मैने तो अपना ही प्यार किसी और का होते देखा है…..

Sher o Shayari

जब आप का नाम जुबान पर आता है

पता नही दिल क्यों मुस्कुराता है

तसल्ली होती है मन को कोई तो है

अपना जो हँसते हुए हर वक्त याद आता है…!!

Sher o Shayari

कभी इतना मत मुस्कुराना की नजर लग जाए जमाने की,

हर आँख मेरी तरह मोहब्बत की नही होती….!!!

Sher o Shayari

हौसले के तरकश में, कोशिश का वो तीर ज़िंदा रखो..

हार जाओ चाहे जिन्दगी मे सब कुछ,

मगर फिर से जीतने की उम्मीद जिन्दा रखो!

Sher o Shayari

कोशिश करो की कोई हम से न रूठे !

जिन्दगी में अपनों का साथ न छूटे !

रिश्ते कोई भी हो उसे ऐसे निभाओ !

कि उस रिश्ते की डोर ज़िन्दगी भर न छूटे

Sher o Shayari

कोशिश करो कि ज़िन्दगी का हर लम्हा अच्छे से अच्छा गुजरे;

क्योंकि, जिंदगी नहीं रहती पर अच्छी यादें हमेशा जिंदा रहती हैं।

Sher o Shayari

किसी को दिल मे छुपाना कोई ग़लत तो नही,

किसी को दिल मे बसाना कोई ख़ता तो नही,

ये दुनियावालो की नज़र मे बुरा हे तो क्या हुवा,

दुनियावाले भी तो इंसान हे कोई खुदा तो नही.

Sher o Shayari

मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है,ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है,

देकर वो आपकी आँखों में आँसू,अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।

Sher o Shayari

खामोशी से बिखरना आ गया है,

हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,

Sher o Shayari

किसी को बेवफा कहते नहीं हम,

हमें भी अब बदलना आ गया है,

Sher o Shayari

किसी की याद में रोते नहीं हम,

हमें चुपचाप जलना आ गया है,

गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,

हमें कांटों पे चलना आ गया है|

Sher o Shayari

किसी को तकलीफ़ देकर मुझसे अपनी ख़ुशी की दुआ मत करना ,

लेकिन … अगर किसी को एक पल की भी ख़ुशी देते हो तो …

अपनी तकलीफ़ की फ़िक्र मत करना !!!

Sher o Shayari

कुछ लिख नही पाते, कुछ सुना नही पाते,

​​हाल-ए-दिल जुबान पर ला नही पाते, ​

वो उतर गए है दिल की गहराइयों मे,​वो समझ नही पाते

और हम समझा नहीं पाते!!

Sher o Shayari

तेरे और मेरी मोहब्बत में बस 1 फर्क होगा सनम।।

तेरी कभी अधूरी नहीं होगी । और मेरी कभी पूरी नहीं होगी।।

Sher o Shayari

हर रात रो-रो के उसे भुलाने लगे,

आंसुओं में उस के प्यार को बहाने लगे,

ये दिल भी कितना अजीब है कि,

रोये हम तो वो और भी याद आने लगे ।

Sher o Shayari

बनकर एहसास मेरी धड़कन के पास रहती हो

बनकर तस्वीर मेरी आंखो के पास रहती हो

एक बात तो बताओ आज पूछता हूं

तुमसे क्या मेरे बिना तुम भी उदास रहती हो !!

Sher o Shayari

हमसे पूछो क्या होता है पल-पल बिताना बहुत मुश्किल होता है

दिल को समझाना यार जिंदगी तो बीत जाएंगी

बस मुश्किल होता है कुछ लोगों को भूल पाना !!

Sher o Shayari

इश्क तुझसे करती हूं

मैं जिंदगी से ज्यादा मैं डरती नहीं

मौत से तेरी जुदाई से ज्यादा चाहे तो आजमा ले मुझे

किसी और से ज्यादा मेरी जिंदगी में कुछ नहीं तेरी मोहब्बत से ज्यादा !!

Sher o Shayari

उनके दीदार के लिए दिल तड़पता है

उनके इंतजार में दिल तरसता है

क्या कहें इस कम्बख्त दिल को अपना हो कर

किसी और के लिए धड़कता है !!

Sher o Shayari

इश्क ने हमें बेनाम कर दिया हर खुशी से हमें

अंजान कर दिया हमने तो कभी नहीं चाहा

किहमें भी मोहब्बत हो लेकिन आप की

एक नजर ने हमे नीलाम कर दिया !!

Sher o Shayari

इतना तो किसी ने चाहा भी न होगा जितना मैंने सिर्फ सोचा है तुम्हें

Sher o Shayari

कोशिश तो की बहुत मगर दिल तक नहीं पहुँचे

वो शहर के थे हाथ मिलाकर चले गए।

मोहब्बत कोई नुमाइस नहीं जो दुनिया देखे

Sher o Shayari

इसे संभाल के रखा जाता है शीशे की तरह……

उस मोड़ से शुरू करनी है फिर से जिंदगी,

जहाँ सारा शहर अपना था और तुम अजनबी…

Sher o Shayari

कुछ नशा तेरी बात का है,

कुछ नशा धीमी बरसात का है,

हमे तुम यूँही पागल मत समझो,

ये दिल पर असर पहली मुलाकात का है!!

Sher o Shayari

जिसने पल पल ,मुझको सताया है ।

कैसे कह दूँ , कि वो पराया है ।

तेरे बाद किसी को प्यार से ना देखा हमने,

पगली हमें इश्क का शौक है आवारगी का नही…!

Sher o Shayari

तुझ से दूर रहकर …..मोहब्बत बढ़ती जा रही है क्या कहूँ …..

कैसे कहूँ ….ये दूरी तुझें और करीब ला रही है ……..

Sher o Shayari

हद-ए-शहर से निकली तो गाँव-गाँव चली कुछ यादे

मेरे संग पाँव-पाँव चली सफ़र जो धूप का किया

तो तजुर्बा हुआ वो जिंदगी ही क्या जो छाँव-छाँव चली

Sher o Shayari

हज़ारों दर्द सहकर भी मोहब्बत छोड़ ना पाया

अकेला दिल नही मेरा ये हर दिल की कहानी है..

Sher o Shayari

ज़रा सी उदासी हो …और वो कायनात पलट दे,

ऐसा भी इक दोस्त तो होना चाहिए.!!

Sher o Shayari

इन ताज़ी हवाओं में फूलों की महक हो;

पहली किरण में पंछियों की चहक हो;

Sher o Shayari

जब भी खोलो आप अपनी पलकें;

उन पलकों में बस खुशियों की झलक हो।

मुझे मालूम है तुमने बहुत बरसातें देखी है,

मगर मेरी इन्हीं आँखों से सावन हार जाता है…

Sher o Shayari

शाम से आंख में नमीं सी है,

आज फिर आपकी कमी सी है !

लाख मिठाइयां चखी हो तुमने मगर..

खुशी के आंशू का स्वाद सबसे मीठा है…

Sher o Shayari

मैंने दिल के दरवाजे पर चिपका दी है एक चेतावनी,

फ़ना होने का दम रखना तभी भीतर कदम रखना..!!

Sher o Shayari

फ़िक्र नहीं हमें की तुम दिल तोड़ दो ..! फ़िक्र है

हमें की कहीं तुम्हें इश्क न हो जाये ..!

Sher o Shayari

काश कभी तुम समझ पाओ इस प्यार के जुनून को,

हैरान रह जाओगे मेरे दिल में अपनी कदर देख कर…!!

Sher o Shayari

दुनियाँ की हर चीज…

ठोकर लगने से टूट जाया करती है.

एक कामयाबी ही है…

जो ठोकर खा के ही मिलती है …!!

Sher o Shayari

जरूरी तो बहुत है ईश्क जिन्दगी मे मगर…

ये जानलेवा जरूरत भगवान किसी को न दें…!!

Sher o Shayari

बेनाम रिश्ते का ये कैसा एहसास है..

अजनबी है फिर भी न जाने क्यों खास है…..!!!!!

Sher o Shayari

कोई मिला ही नही जिससे वफ़ा करते ,

हर इक ने धोखा दिया किस-किस को सज़ा देते …

Sher o Shayari

बहुत नजदीक हो के भी वो इतना दूर है मुझसे,

इशारा हो नहीं सकता…पुकारा जा नहीं सकता….

Sher o Shayari

कभी किसी के दिल से खिलवाड़ मत करना

कभी किसी के दिल का दर्द मत बनना

जो न दे सको किसी का साथ जिंदगी भर

कभी किसी से झूठा प्यार मत करना.?

Sher o Shayari

“जिन्हे आना है वो खुद लौट आयेंगे तेरे पास ए दोस्त,

बुलाने पर तो परिंदे भी गुरुर करते है अपनी उड़ान पर !!”..

Sher o Shayari

प्यार के उजाले में गम का अंधेरा क्युँ है,

जिसको हम चाहें वही रूलाता क्युँ है,

मेरे रबा अगर वो मेरा नसीब नही तो..

ऐसे लोगों से हमें मिलाता क्युँ है..

Sher o Shayari

बातें करके रुला ना दीजियेगा,

यूं चुप रहके सज़ा ना दीजियेगा,

ना दे सके खुशी तो ग़म ही सही,

पर दोस्त बना के यूं भुला ना दीजियेगा

Sher o Shayari

पानी से तस्वीर कहा बनती है,

ख्वाबों से तकदीर कहा बनती है,

किसी भी रिश्ते को सच्चे दिल से निभाओ,

ये जिंदगी फिर वापस कहा मिलती है

कौन किस से चाहकर दूर होता है,

हर कोई अपने हालातों से मजबूर होता है,

हम तो बस इतना जानते हैं…

हर रिश्ता “मोती” और हर दोस्त “कोहिनूर” होता है।

Sher o Shayari

निभाते नहीं है लोग आजकल…! वरना…

इंसानियत से बड़ा रिश्ता कौन सा है…

Sher o Shayari

“वो नदिया नहीं आंसू थॆ मॆरॆ,जिनपर,

वो कश्ती चलातॆ रहे मंज़िल मीलॆ उन्हॆ ये चाहत थी मेरी,

इसलऎ हम आंसू बहातॆ रहे

Sher o Shayari

काटो के बदले फूल क्या दोगे,

आँसू के बदले खुशी क्या दोगे,

हम चाहते है आप से उमर भर की दोस्ती,

हमारे इस शायरी का जवाब क्या दोगे?

Sher o Shayari

चाहत वो नहीं जो जान देती है,

चाहत वो नहीं जो मुस्कान देती है,

ऐ दोस्त चाहत तो वो है,

जो पानी में गिरा आंसू पहचान लेती हैं.

Sher o Shayari

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,

गम के आंसू न बहते तो और क्या करते,

उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,

हम खुद को न जलाते तो और क्या करते!

Sher o Shayari

कभी आंसू, कभी सजदे, तो कभी हाथों का उठ जाना..

मोहब्बत नकाम हो जाएँ, तो रब बहुत याद आता ह..!!

तुमने क्या सोचा कि तुम्हारे सिवा कोई नही मुझेचाहने वाला.. पगली छोङ कर तो देख,

मौत तैयार खङी है मुझे अपने सीने लगाने के लिए..!!

Sher o Shayari

जिंदगी में हमेशा सबकी जरुरत रखो पर कभी किसी की कमी नहीं;

क्योंकि जरुरत और कोई भी पूरी कर सकता है

पर किसी की कमी कोई पूरी नहीं कर सकता।

Sher o Shayari

हम तो बदनसीब लोग है…

हमारे हाथो में जख्म पहले लिखे जाते है.

नसीब बाद में….

Sher o Shayari

काश तेरा प्यार भी “ए दिल” निकाह जैसा होता……,, .

तीन बार प्यारप्यारप्यार कहकर तेरे रुबरु हो जाते…!!

Sher o Shayari

एक दिन हमारे आँसू हमसे पूछ बैठे;

हमें रोज़-रोज़ क्यों बुलाते हो;

हमने कहा हम याद तो उन्हें करते हैं;

तुम क्यों चले आते हो…!!

Sher o Shayari

“रिश्ते किसी से कुछ यूँ निभा लो,

की उसके दिल के सारे गम चुरा लो,

इतना असर छोर दो किसी पे अपना,

की हर कोई कहे हमें भी अपना बना लो.”

Sher o Shayari

ज़रा सी उदासी हो …और वो कायनात पलट दे,

ऐसा भी इक दोस्त तो होना चाहिए.!!

Sher o Shayari

मुझे हराकर कोई मेरी जान भी ले जाए मुझे मंजुर है..!!

लेकिन धोखा देने वालों को मै दुबारा मौका नही देता..!

Sher o Shayari

कहते है दोस्त मुझसे के तू कितना खुश नसीब है…..

तू शायरी लिखता है आज मैं कहता हूँ

रब किसी को शायर न बनाये..

इस हुनर को पाने मे बड़ा दर्द होता है

Sher o Shayari

ज़िंदगी की कसौटी से हर रिश्ता गुज़र गया,

कुछ निकले खरे सोने से, कुछ का पानी उतर गया..!!

Sher o Shayari

कभी कभी मेरी आँखे यूँ ही रो पडती है..

मै इनको कैसे समझाऊँ कि

कोई शक्स सिर्फ चाहने से ही अपना नही हो जाता….

किस्मत की लकीरें भी चाहिए

मोहब्बत के रास्ते कितने भी मखमली क्यो न हो

खत्म तन्हाई के कम्मबल मे ही होते है

Sher o Shayari

आंसुओं की बूँदें हैं या आँखों की नमी है..न ऊपर आसमां है न नीचे ज़मी है

यह कैसा मोड़ है ज़िन्दगी का उसी की ज़रूरत है और उसी की कमी है

Sher o Shayari

ठोकर ना लगा मुझे पत्थर नही हूँ मैं हैरत से ना देख कोई मंज़र नही हूँ

मैं उनकी नज़र में मेरी कदर कुछ भी नही मगर उनसे पूछो जिन्हें हासिल नही हूँ मैं

Sher o Shayari

गम इस बात का नही कि तुम बेवफा निकली,

मगर अफ़सोस ये है कि वो सब लोग सच निकले

जिनसे मैं तेरे लिए लड़ा करता था

Sher o Shayari

अपना होगा तो सता के मरहम देगा …

जालिम होगा अपना बना के जख्म देगा

समय से पहले पकती नहीं फसल…

अरे बहुत बरबादियां अभी मौसम देगा

Sher o Shayari

मुलाक़ातें तो आज भी हो जाती है तुमसे..

ख़्वाब किसी “ताले” के मोहताज नही हैं..

तेरी आँखों से यू तो सागर भी पिए हैं मैने..

तुझे क्या खबर जुदाई के दिन कैसे जिए हैं मैने.

Sher o Shayari

कितने मजबूर हैं हम प्यार के हाथों,

ना तुझे पाने की औकात… ना तुझे खोने का हौसला।

Sher o Shayari

नजर और नसीब के मिलने का इत्तफाक कुछ ऐसा है कि,

नजर को पसंद हमेशा वही आता है ,जो नसीब मे नही होता…!!

Sher o Shayari

अपने खुदा से जब भी अपना मुक़द्दर मांगेंगे ,

और भले ही कुछ न मांगें, तुम्हें उम्र-भर मांगेंगे ….

मुझसे दूरियाँ बनाकर तो देखो…

फिर पता चलेगा कितना नज़दीक हूँ मैं..

Sher o Shayari

कोई मिला ही नही जिससे वफ़ा करते ,

हर इक ने धोखा दिया किस-किस को सज़ा देते …

Sher o Shayari

अब हम कभी ना जागेंगे रातों को,उसकी यादों के सहारे।

बस हमने तो फ़ितरत बदलनी है,उसकी नज़रों की तरह।

Sher o Shayari

✪➦ सिमट कर रह गया मेरा प्यार कुछ ही ➪ लफ्जो मे दोस्तो….

जब उस पगली ने कहा ➠ मोहब्बत तो करती हूँ

आपसे पर मेरी शादी किसी और के साथ होने वाली है..|•|

Sher o Shayari

इतना टूटा हूँ के छूने से बिखर जाऊँगा

अब अगर और दुआ दोगे तो मर जाउंगा

Sher o Shayari

हद-ए-शहर से निकली तो गाँव-गाँव चली

कुछ यादे मेरे संग पाँव-पाँव चली सफ़र

जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ

वो जिंदगी ही क्या जो छाँव-छाँव चली।

Sher o Shayari

किसी भी मोड़ पर अगर​ , मै बुरा लगूं , ​

तो ज़माने को बताने से पहले​ ,

एक बार मुझे जरूर बता देना ,

बदलना मुझे है , ज़माने को नहीं …

Sher o Shayari

फिर ना किजीएगा मेरी गुस्ताख निगाहों का गिला “

” देखिए आपने फिर आज प्यार से देखा मुझे”

” जिनके आँगन में अमीरी के शजर लगते हैं….

उनके हर ऐब ज़माने को हुनर लगते हैं …!!

अब इतना भी„ खूब ना लिखा „ करो यारो……….,

आप सबके , अल्फ़ाज़ों „ से इश्क़ „ सा होने लगा है……..

Sher o Shayari

… अजीब होती हैं मोहब्बत की राहें भी …

रास्ता कोई बदलता है ..,

मंज़िल किसी और की खो जाती है …….

Sher o Shayari

एक शब्द है (आँसू) दिल में छुपा कर रखो

तुम्हारी आँखों से ना निकल जाए तो कहना,

Sher o Shayari

मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी ,

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने !!

Sher o Shayari

एक शब्द है (ईश्वर) इसे पुकार कर तो

देखो सब कुछ पा ना लो तो कहना

Sher o Shayari

एक शब्द है (मुकद्दर) इससे लड़कर देखो

तुम हार ना जाओ तो कहना,

Sher o Shayari

एक शब्द है (जुदाई) इसे सह कर तो देखो

तुम टूट कर बिखर ना जाओ तो कहना,

Sher o Shayari

मिलना इतिफाक था बिछड़ना 

नसीब था वो उतना ही दूर  हो गया

जितना करीब था हम उसको देखने क लिए तरसते ही  रहे

जिस शख्स  की हथेली पे हमारा नसीब था !!!

Sher o Shayari

रिश्तों से बड़ी चाहत क्या होगी,

दोस्ती से बड़ी इबादत क्या होगी,

जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,

उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।

Sher o Shayari

दिल चाहता है कि फ़िर,अजनबी बन कर देखें,

तुम तमन्ना बन जाओ,हम उम्मीद बन कर देखें

Sher o Shayari

तेरा नाम था आज किसी अजनबी की जुबान पे…

बात तो जरा सी थी पर दिल ने बुरा मान लिया..

Sher o Shayari

क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है!

एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है!

लगने लगते है अपने भी पराये!

और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है!

Sher o Shayari

बहुत खूबसूरत होते हैं वो पल….?

जिसमे दोस्त साथ होते है

लेकिन उससे भी खूबसूरत है

वो लम्हें जब दूर रहकर भी वो हमें याद करते है ।

Sher o Shayari

किसी से करो प्यार इतना,

कि किसी ओर से मिलने की गुंजाइश ना रहे

वो मुस्कुरा देँ आपको देख कर एक बार

तो जिंदगी से फिर कोई ख्वाहिश न रहे

Sher o Shayari

क्या पता क्या खूबी है उनमे और क्या कमी है हम में,

वो हमे अपना नही सकते और हम उन्हे भुला नही सकते !!

Sher o Shayari

हमे मुस्कान आपकी यादो से ::: मिलती हैं :::

दिल को राहत आपकी बातों से ::: मिलती हैं :::

बन्द मत करना ये दोस्ती का ::: सिलसिला :::

दिल की धड़कन आपकी दोस्ती से ::: चलती हैं :::

Sher o Shayari

नींद और निंदा पर जो व्यक्ति विजय पा लेते है,

उन्हें आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता !!

Sher o Shayari

जब तक तुम्हें न देखूं!

दिल को करार नहीं आता!

अगर किसी गैर के साथ देखूं!

तो फिर सहा नहीं जाता!

Sher o Shayari

रिश्ते दिल से बनते है बातों से नही,

कुछ लोग बहुत सी बातो के बाद भी

अपने नही होते और *कुछ

शांत रहकर भी अपने बन जाते है …

Sher o Shayari

उन्होंने हमें आजमाकर देख लिया,

इक धोखा हमने भी खा कर देख लिया.

क्या हुआ हम हुए जो उदास,

उन्होंने तो अपना दिल बहला के देख लिया.

Sher o Shayari

मुठ्ठियों में कैद है जो खुशियाँ सब में बांट दो…!!

तेरी हो चाहे मेरी हो एक दिन हथेलियां तो खुल ही जानी हैं…!!

Sher o Shayari

“जिंदगी देने वाले, मरता छोड़ गये,

अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये,

जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की,

वो जो साथ चलने वाले, रास्ता मोड़ गये.”

Sher o Shayari

उन्होंने हमें आजमाकर देख लिया,

इक धोखा हमने भी खा कर देख लिया.

क्या हुआ हम हुए जो उदास,

उन्होंने तो अपना दिल बहला के देख लिया.

Sher o Shayari

गलियों से गुजरने का ना इल्ज़ाम दो

हमको दीवानगी खींच लाती है ,

दिल के हाथों मजबूर हैं हम.. कहते है

की पहला प्यार कभी भुलाया नही जाता;

फिर पता नही लोग अपने माँ बाप का प्यार क्यूँ भूल जाते है !!

Sher o Shayari

सुकून अपने दिल का मैने खो दिया,

खुद को तन्हाई के समुंदर मे डुबो दिया.

जो था मेरे कभी मुस्कुराने की वजह,

आज उसकी कमी ने मेरी पलको को भिगो दिया…

Sher o Shayari

“वक्त के पन्ने पलटकर,

फ़िर वो हसीं लम्हे जीने को दिल चाहता है,

कभी मुशाकराते थे सभी दोस्त मिलकर,

अब उन्हें साथ देखने को दिल तरस जाता है.”

Sher o Shayari

कुछ चेहरे कभी भुलाये नहीं जाते,

कुछ नाम दिल से मिटाए नहीं जाते,

मुलाक़ात हो या न हो, लेकिन अऐ यार,

प्यार के चिराग कभी बुझाये नहीं जाते !

Sher o Shayari

सारे मंजर बदल गए होंगे ..आप हद से निकल गए होंगे ….!!

आग इतनी कहाँ थी फूलों में हाथ शबनम से जल गए होंगे .

Sher o Shayari

नजर मिली तो फसाने हुए

एक पल मेँ हम आपके दीवाने हुए

जब से आये हो आप हमारी मेँ ज़िन्दगी में

अंदाज़ ही हमारे कुछ शायराना हुए

Sher o Shayari

ढूंढा करोगे हर किसी में मुझको, देखना वो मंजर भी आएगा ..

हम याद भी आएंगे और आँखों में समंदर भी आएगा …!!

Sher o Shayari

ढूंढा करोगे हर किसी में मुझको,

देखना वो मंजर भी आएगा ..

हम याद भी आएंगे और आँफूल तो कई है यहाँ,

मगर वो महक कही छुप गयी; यार तो बहुत है यहाँ,

मगर वो दोस्ती कही छुप गयी;

इश्क़ में धोखा क्या मिला हमें, लगता है

हमारी दीवानगी कही छुप गयी;

खों में समंदर भी आएगा …!!

Sher o Shayari

याद करना और याद आना दोनों अलग-अलग बातें है

याद हम उन्हें करते हैं जो हमारे अपने है

और याद हम उन्हें आते है

जो हमें अपना समझते है! !!!!!! M

Sher o Shayari

जिंदगी सुंदर है पर मुझे.

जीना नहीं आता, हर चीज में नशा है

पर मुझे. पीना नहीं आता, सब मेरे बिना जी सकते हैं,

र्सिफ मुझे अपनों के बिना…. जीना नहीं आता….

Sher o Shayari

मेरी दुनियाँ है तुझ में कही तेरे बिन मैं क्या,

कुछ भी नहीं मेरी जान में तेरी जान है, ओ साथी मेरे

Sher o Shayari

पलकों में तेरे रूप का सपना सजा दिया

पहली नजर में ही तुझे, अपना बना लिया है

यही आरजू, हर घड़ी बैठी रहो मेरे सामने

Sher o Shayari

ऐसा लगा मेरे सनम, हम जो यहाँ मिले सहारा

में जैसे शबनमी चाहत के गुल खिले ये जमीन,

आसमान, कह रहे, हम तो कभी ना होंगे जुदा

Read More >>>> Shayari For Hindi