रिश्ते_निभाने_पर_शायरी

रिश्ते निभाने पर शायरी | खूबसूरत, अनमोल रिश्ते शायरी

1.रिश्ते निभाने पर शायरी | खूबसूरत, अनमोल रिश्ते शायरी | Rishte Nibhane Par Shayari | आपकी आंखों में सजे हैं जो भी सपने. दिल में छिपी हैं जो भी अभिलाषाएं. ये नया वर्ष उन्हें सच कर जाए. आपके लिए 

रिश्ते निभाने पर शायरी

rishte-nibhane-par-shayari

Free Download

1.”रिश्ते किसी से कुछ यूँ निभा लो,
की उसके दिल के सारे गम चुरा लो,
इतना असर छोर दो किसी पे अपना,
की हर कोई कहे हमें भी अपना बना लो.”

2.पानी से तस्वीर कहा बनती है,
ख्वाबों से तकदीर कहा बनती है,
किसी भी रिश्ते को सच्चे दिल से निभाओ,
ये जिंदगी फिर वापस कहा मिलती है

3.जो कोई समझ न सके वो बात हैं हम;
जो ढल के नयी सुबह लाये वो रात हैं हम;
छोड़ देते हैं लोग रिश्ते बनाकर;
जो कभी न छूटे वो साथ हैं हम।

4.रिश्तों में प्यार की मिठास रहे;
एक न मिटने वाला एहसास रहे;
कहने को छोटी सी है यह जिंदगी;
लंबी हो जाये अगर आपका साथ रहे।

5.जब याद आती है आपकी तो मुस्कुरा लेते हैं,
कुछ पल के लिए गम भुला लेते हैं,
कैसे भीग सकती हैं आपकी पलकें,
जब आपके हिस्से के आँसू हम बहा लेते हैं।