milne-ki-tadap-shayari

मिलने की तड़प शायरी | मिलने की चाहत शायरी

मिलने की तड़प शायरी | मिलने की चाहत शायरी Milne ki Tadap shayari Milne Ki Chahat Shayari बेचैनी की शायरी बल्कि इसलिए कि उन्हें अपनी जिम्मेदारी का अहसास होता है…!! “जो लोग लड़ाई हो चुकने बाद भी माफी माँग लेते हैं, वो इसलिए नहीं कि, वो गलत थे 

मिलने की तड़प शायरी

milne-ki-chahat-shayari

1
ना दूर हमसे जाया करो दिल तड़प जाता है
आपके ख्यालों में ही हमारा दिन गुज़र जाता है
पूछता है यह दिल एक सवाल आपसे कि
क्या दूर रहकर भी आपको हमारा ख्याल आता है!!
2
बिताए हुए कल में आज को ढूँढता हूँ
सपनों में सिर्फ आपको देखता हूँ
क्यों हो गए आप मुझसे दूर यह सोचता हूँ
तन्हा यारों से छुपकर रोता हूँ !!
3
इश्क है वही जो हो एक तरफा,
इजहार-ए-इश्क तो ख्वाहिश बन जाती है,
है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ,
जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है।
4
मोहब्बत की जंजीर से डर लगता है
कुछ अपने तकदीर से डर लगता है
जो मुझे तुझसे जुदा करती है
मुझे उस हाथ की लकीर से डर लगता है !!
5
तेरी याद में आंसुओं का समंदर बना लिया
तन्हाई के शहर में अपना घर बना लिया
सुना है लोग पूजते हैं पत्थर को इसलिए
तुझसे जुदा होने के बाद दिल को पत्थर बना लिया !!
6
बड़ी मुददत के बाद मिलने वाली थी कैद से आज़ादी;​ ​
पर किस्मत तो देखो, जब आज़ादी मिलने वाली थी;​ ​
तब तक पिंजरे से प्यार हो चुका था!
7
कभी लगा वो मुझे सता रहे है,
कभी लगा के वो करीब आ रहे है,
कुछ लोग होते है आंसुओं की तरह,
पता ही नही लगता साथ दे रहे है या छोड़ कर जा रहे है…
8
रौशनी दरकार है पर लौ ज़रा मद्धम करो,
चाहिये तुमको ग़ज़ल तो ऑंख मेरी नम करो !!
देखकर पलकें मेरी कहने लगा कोई फक़ीर,
इनपे बरख़ुरदार सपनों का वज़न कुछ कम करो !!
9
ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे;
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे;
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया;
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।
10
नज़र नवाज़ नज़रों में ज़ी नहीं लगता
फ़िज़ा गई तो बहारों में ज़ी नहीं लगता
ना पूछ मुझसे तेरे ग़म में क्या गुजरती है
यही कहूंगा हज़ारों में ज़ी नहीं लगता !!