matlabi-shayari

मतलबी शायरी इन हिंदी Matlabi Shayari Status

मतलबी शायरी इन हिंदी Matlabi Shayari Status Quotes ये दुनिया मतलब की है शायरी मतलब की दुनिया में कौन किसी का होता है Share On Facebook Whatsapp Friends New Matlabi Messages Hindi Photos Images Read More:

मतलबी शायरी इन हिंदी

matlabi-shayari-hindi

आज गुमनाम हूँ तो ज़रा फासला रख मुझसे.. कल फिर मशहूर हो जाऊँ तो कोई रिश्ता निकाल लेना..

देख के दुनिया अब हम भी बदलेंगे मिजाज़ रिश्ता सब से होगा लेकिन वास्ता किसी से नहीं

दुनिया में सबको दरारों में से झांक ने की आदत है, दरवाजि खुले रख दो, कोई आस पास भी नहीं दिखेगा

भुला देंगे तुम्हे भी जरा सब्र तो कीजिए आपकी तरह मतलबी होने में जरा वक्त लगेगा !!

चिठ्ठी ना कोइ संदेश जाने वो कौन सा देश जहां तुम चले गए हो ! इस दिल पे लगा के ठेंस जाने वो कौन सा देश जहां तुम चले गए हो !!

न परेशानियां, न हालात न ही कोई रोग है, जिन्होंने हमें सताया है और कोई नहीं वो झूठे लोग हैं।

ये मत समझ कि तेरे काबिल नहीं हैं हम, तड़प रहे हैं वो अब भी जिसे हासिल नहीं हैं हम.

बातें विश्वास और भरोसे की बेमानी सी लगती हैं, झूठी दुनिया में वफादारी अनजानी सी लगती है

झूठे लोगों से भरी पड़ी हैं कहानियां यहाँ किताबों में प्यार से बोल दे कोई तो मेहरबानी सी लगती है।

जरूर एक दिन वो शख्स तड़पेगा हमारे लिए… अभी तो खुशियाँ बहोत मिल रही है उसे मतलबी लोगो से.

हम मरना भी उस अंदाज़ में पसंद करते है..! जिस अंदाज में लोग जीने के लिये तरसते है..! अगर तुम अपने पापा की “परी” हो, तो हम भी अपने बाप के “नवाब” है !

उससे रिश्ता कुछ ऐसे बसर कर रक्खा है… वो काफिर समझते हैं… मैंने रोज़ा रख रक्खा है…

जब नाखून बढ़ जाते हैं, तब नाखून ही काटे जाते हैं, उंगलियॉ नहीं, इसलिए अगर रिश्ते में दरार आ जाए तो दरार को मिटाइए न कि रिश्ते को

रिश्ते कभी ज़िन्दगी के साथ नहीं चलते, रिश्ते एक बार बनते हैं, फिर ज़िन्दगी रिश्तों के साथ चलती है

जो थोङी फुरसत मिले दिल की बात कह दीजिये, बहुत खामोश रिश्ते ज्यादा दिनों तक ज़िंदा नहीं रहते…

दुनिया में सबसे बेहतरीन रिश्ता वही होता है जहॉ एक मामूली सी मुस्कुराहट अौर हल्की सी Sorry से ज़िन्दगी पहले जैसी हसीन हो जाती है

अकसर वही रिश्ते लाजवाब होते है… जो एहसानों से नही, एहसासों से बने होते हैं

शीशा अौर रिशता दोनों हि बङे नाज़ुक होते हैं दोनों में सिर्फ एक ही फर्क है, शीशा गलती से टूट जाता है अौर रिशता गलतफहमियों से

एक रिश्ते में टिकते क्यूॅ नहीं हो इतने सस्ते हो, फिर बिकते यूॅ नहीं हो प्यार, अदब तहज़ीब, सलीका, ये ढोंग क्यूॅ, जैसे हो वैसे दिखते यूॅ नहीं हो

रिश्तों में कभी कभी हाथ छूङाने की ज़रूरत नहीं पङती, लोग साथ रह कर भी बिछङ जाते हैं

तमन्ना जो पुर हो ख्वाबों में, हकीक़त बन जाए तो क्या बात है, कुछ लोग मतलब के लिए ढूंढ़ते है मुझे, बिन मतलब कोई आये तो क्या बात है…!!!

कभी-कभी रिश्तों की कीमत वो लोग समझा देते हैं जिनसे हमारा कोई रिश्ता नहीं होता

मुझे रिश्ते की लम्बी कतारों से मतलब नहीं कोई दिल से हो मेरा तो एक शख्स ही काफी है।

रूबरू होने की तो छोङिये, लोग गूफ्तगू से भी कतराने लगे हैं… गुरूर आढ़े हैं रिश्ते, अपनी हैसियत पर इतराने लगे हैं

हम कई रिशतों को टूटने से बचा सकते हैं केवल अपनी सोच में यह छोटा सा बदलाव करके, कि सामने वाला गलत नहीं है, सिर्फ हमारी उम्मीद से थोङा अलग है

जब रिश्ता नया होता है तो लोग बात करने का बहाना ढूंढते हैं और जब वही रिश्ता पुराना हो जाता है तो लोग दूर होने का बहाना ढूंढते हैं