matlabi-rishtedar-shayari

Matlabi Rishtedar Shayari झूठे मतलबी रिश्ते शायरी Quotes 2022

Matlabi Rishtedar Shayari झूठे मतलबी रिश्ते शायरी Quotes Status Meesages In Hindi 2022  कोई नहीं किसी का यहाँ, सबको फायदे की लगी बीमारी है लालच से चल रही ये दुनिया सब मतलब की रिश्तेदारी है 

Matlabi Rishtedar Shayari

matlabi-rishtedar-shayari-2

 मतलबी रिश्तो की बस इतनी सी कहानी है
अच्छे वक़्त में मेरी खूबियां
और बुरे वक़्त में मेरी कमियां गिननी है

प्यासा चल रहा हु में
पता बताओ कोई सुखी दरिया का
रेत खोद के पियूँगा पानी
भरोसा नहीं अब मतलबी दुनिया का ।

खून से बने सभी रिश्तो में मेने, निस्वार्थ प्यार ढूंढा कई बार
हर ईंट को जोड़े सीमेंट में छुपा मिले, “मतलब लाखो हजार“

इस दुनिया ने सिर्फ हमें मतलब के लिए ही आज़माया है
मतलब निकल जाने के बाद, हमें अजनबी बनकर ठुकराया है

इस मतलबी दुनिया में इश्क़ सिर्फ एक दिखावा है
तुझे भी देखा मिलेगा ये मेरा दवा है

छोड़ क्यों नहीं देते ऐसे लोगो को जो हमें सताया करते है
जो हमारे जज़्बातो का मज़ाक उड़ाया करते है
क्यों बनाय ऐसे लोगो को अपना
जो सिर्फ हमें अपनी ज़रूरतों पर ही बुलाया करते है

शैतान जब इंसान का गुनाह देखता होगा
खुदको हमसे नेक-ए-दिल समझता होगा
वो भी बक्श देता है बेजुबान-ए-निर्दोष जनाब
हम अपने मतलब के लिए बक्शते नहीं किसी को

मतलबी दुनिया का इतना सा फ़साना है ।
आज तेरा दिन है तुझे दोस्त बनाना है ।।

 मतलबी लोग भी ना जाने कैसे कैसे आपने मतलब निकल लेते है
अक्सर अपने मतलब के लिए ये खून के रिश्ते भी भुला देते है !

अपने किरदारों को ज़रा संभल के रखो
एक बार जो दाग लग गया तो ताउम्र साथ रहेगा ।

पक्के रिश्ते तो बचपन में बनते थे
अब तो लोग बात भी मतलब से करते है

बड़ी विडंबना है साहब
बात का मतलब कोई समझना नहीं चाहता
और मतलब की बात सब समझ जाते है

इश्क़ में पलकों पर बैठना भी जानते है और
नफरत में जूतों के निचे दबाना भी जानते है
फैसला आप को करना है की आप क्या चाहते है

 बस यादें ही है जो बेवजह साथ देती है
इंसान तो सब मतलबी होते है

ज़हर सी बात है
हर कोई मतलब तक साथ है

बेमतलब ही कुछ लिखा जाए
मतलब तो अब हर जगह साथ है

यह दुनिया है साहब
यह दिल से नहीं ज़रूरत से प्यार करती है

मतलबी यारो का इतना सा फ़साना है
तू यार अपना, एक काम निकलवाना है

अच्छा चलता हूँ।
मतलब पढ़े तो याद करना।।

जरा संभल कर चलना क्योंकि
तारीफों के पुल के निचे मतलब की नदी बहती है ।

कोई नहीं किसी का यहाँ,
सबको फायदे की लगी बीमारी है
लालच से चल रही ये दुनिया
सब मतलब की रिश्तेदारी है ।

यह दुनिया न प्यार से चलती है न दोस्तों से चलती है
हमने तो यही पाया है की यह सिर्फ मतलब से चलती है ।

मेरी लाइफ में कोई दखलअंदाज़ी करे मुझे पसंद नहीं
और में किसी ज़िन्दगी में दखलअंदाज़ी करू मुझे इंट्रेस्ट नहीं

मतलबी हु में
कमाता हु बेनाम के लिए
खाता हु कल की शाम के लिए
मयखाने भी जाता हु तो
बस एक जाम के लिए

येह जो हालात है मैरे आज सुधर जाएंगे ।
पर अफ़सोस की
कुछ लोग दिल से उतर जायँगे