Best Masti Shayari ! मौज मस्ती वाली शायरी

 मौज मस्ती वाली शायरी | Masti Shayari | हमने तो चारो तरफ पढ़ाई का माहौल बनाया है, लेकिन फिर भी एग्जाम में अंडा ही आया है, हम तो यूँ ही चल देते हैं बिना मुंह धोये ही एग्जाम में, साले दोस्त कहते हैं ये तो बहुत पड़के आया है। Masti Shayari In Hindi

Masti Shayari In Hindi

Best-Masti-Shayari

1.ट्विंकल ट्विंकल लिटिल स्टार,
तेरी गर्लफ्रेंड गई बाजार,
उसको मिल गया दूसरा यार,
उसके संग वो हो गई फरार,
अब तू बैठ के मक्खी मार।

2.पुराने शहर के लोगों में एक रस्म ऐ मुर्रव्वत है
हमारे पास आ जाओ कभी धोखा नहीं होगा

3.पेशानियों पे लिखे मुक़द्दर नहीं मिले|
दस्तार कहाँ मिलेंगे जहाँ सर नहीं मिले|

4.आवारगी को डूबते सूरज से रब्त है,
मग़्रिब के बाद हम भी तो घर पर नहीं मिले|

5.कल आईनों का जश्न हुआ था तमाम रात,
अन्धे तमाशबीनों को पत्थर नहीं मिले|

6.मैं चाहता था ख़ुद से मुलाक़ात हो मगर,
आईने मेरे क़द के बराबर नहीं मिले|

7.परदेस जा रहे हो तो सब देखते चलो,
मुमकिन है वापस आओ तो ये घर नहीं मिले|

8.दोस्तो हम उन्हें मुड़ मुड़कर देखते रहे,
और वो हमें मुड़-मुड़ कर देखते रहे,
वो हमें हम उन्हें, वो हमें हम उन्हें,
क्योंकि परीक्षा में न उन्हें कुछ आता था न हमे।

Moj Masti Wali Shayari

मौज_मस्ती_वाली_शायरी

1.लोग हर मोड़ पे रुक-रुक के संभलते क्यों हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं

2.मैं न जुगनू हूँ, दिया हूँ न कोई तारा हूँ
रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं

3.नींद से मेरा त’अल्लुक़ ही नहीं बरसों से
ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं

4.मोड़ होता है जवानी का संभलने के लिए
और सब लोग यहीं आके फिसलते क्यों हैं

5.पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,
दिल में क्या है वो बात नही समझती,
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती…

6.अर्ज किया है…
खिड़की से झाँक के देखा तो रास्ते में कोई नहीं था,
खिड़की से झाँक के देखा तो रास्ते में कोई नहीं था,
वाह वाह… फिर रास्ते में जा कर देखा…
तो खिड़की पर कोई नहीं था।

7.फूल सबनम में डूब जाते है
झख्म मरहम में डूब जाते है |
जब आते है खत तेरे |
हम तेरे गम में डूब जाते है.|

8.जब किसी को चाहना खता हो जाती है!
खुशी ज़िन्दगी से लापता हो जाती है!
बेनूर नज़र आती हैं महफिलें सभी,
साँस-ए-जिस्म दर्दों की पता हो जाती है!

9.ख्वाइस तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये |
शमा खामोस हो जाये और शाम ढल जाये ||
प्यार इतना करे कि इतिहास बन जाये |
और तुम्हारी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये ||

10.हमारी किसी बात से खफा मत होना,
नादानी से हमारी नाराज़ मत होना.
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना,
चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना..

11.चाहने से कोई चीज़ अपनी नही होती,
हर मुस्कुराहट खुशी नही होती,
अरमान तो भूख होती है दिल मे,
मगर कभी वक़्त तो कभी किस्मत सही नही होती….

12.कोई अछी सी सज़ा दो मुझको
चलो भुला दो मुझको.
तुमसे दोस्ती टूटे उस दिन मौत आ जाए मुझको
दिल की गहराइयों से दुआ दो मुझको…

13.हम आप को कभी खोने नहीं देंगे .
जुदा होना चाहा तो भी होने नहीं देंगे .
चाँदनी रातों में आएगी मेरी याद .
तो मेरी याद के वो पल आप को सोने नहीं देंगे…

14.हा मेरा हर लम्हा चुरा लिया आपने,
आँखों को एक नया चाँद दिखा दिया आपने,
हमें ज़िन्दगी दी किसी और ने,
पर इतना प्यार देकर जीना सिखाया आपने!

15.जो लम्हा साथ हैं . . .
उसे जी भर के जी लेना.
कम्बख्त ये जिंदगी. . .
भरोसे के काबिल नहीं होती।

16.कुछ अलग ही करना है
तो वफ़ा करो दोस्त ,
वरना मज़बूरी का नाम लेकर
बेवफाई तो सभी करते है .

17.कदर करलो उनकी जो तुमसे
बिना मतलब की चाहत करते हैं…
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम और
तकलीफ देने वाले ज़्यादा होते है..!

18.”वो कहते है कि उन पर कोई ग़ज़ल लिखूं,
मैं एक ग़ज़ल पर कैसे दूसरी ग़ज़ल लिखूं !”

19.आज मैंने दिल को थोड़ा साफ़ किया,
कुछ को भूला दिया, कुछ को माफ़ किया…!!!

20.हम ने तो उसकी हर ख्वाहिश
पूरी करने का वादा किया था..
पर हमें क्या पता था की हमें छोडना भी
उसकी एक ख्वाहिश होगी..