कुछ_कर_दिखाने_की_शायरी

कुछ कर दिखाने की शायरी | kuch kar dikhane ki shayari

कुछ कर दिखाने की शायरी | kuch kar dikhane ki shayari | पतझड़ हुए बिना पेड़ों पर नए पत्ते नहीं आते, कठिनाई और संघर्ष सहे बिना अच्छे दिन नहीं आते। मत सोच की तेरा सपना क्यों पूरा नहीं होता, हिम्मत वालों का इरादा कभी अधूरा नहीं होता, जिस इंसान के करम अच्छे होते है, उसके सपने नव वर्ष में भी पूरे होते है। 

कुछ कर दिखाने की शायरी

kuch-kar-dikhane-ki-shayari

Free Download

1.याद रखना ये दुनिया आपको तब तक हरा नही सकती है
जब तक आप खुद हार स्वीकार नही कर लेते है

2.अंधेरों में भटकने वाला तारा हूँ,
सप्तऋषियों का प्यारा हूँ,
अंधेरों से लड़कर एक रोज़,
चमकने वाला सितारा हूँ।

3.जो अपने कदमो की काबिलियत पर भरोषा रखते है,
वो ही अक्सर अपनी मंजिल तक पहुच पाते है

4.आप अगर अपने वर्तमान का सही उपयोग करोगे तो,
आने वाला भविष्य आपके लिए अच्छा ही होगा

5.गिर गए तो क्या हुआ ?
जो गिरेगा वही तो चलना सीखेगा।
बस इतना सा करना है
कि उठकर फिर से चलना है।

6.परिवर्तन से डरना और संघर्ष से कतराना
मनुष्य की सबसे बड़ी कायरता है
जीवन का सबसे बड़ा गुरु वक्त होता है,
क्योंकि जो वक्त सिखाता है वो कोई नहीं सीखा सकता

7.दरिया बनकर किसी को
डुबाने से बेहतर है,
की जरिया बनकर किसीको
बचाया जाए !!

8.ऊँचे ख्वाबों के लिए दिल की गहराई से काम करना पड़ता है
यूँ ही नहीं मिलती सफलता किसी को
मेहनत की आग में दिन-रात जलना पड़ता है

9.मौन किसी इंसान की कमज़ोरी नहीं
उसका बडप्पन होता है ।
वरना जिसको सहना आता है,
उसको कहना भी आता है ।

10.घनघोर अँधेरा एक तरफ,
छोटे से दीपक की रौशनी एक तरफ,
मुश्किलें कितनी भी हों, दीपक की तरह डटे रहो,
सफलता तुम्हारे कदम चूमेगी

11.हमारे जीवन में चाहे कितने भी अन्धकार पल क्यों न आये,
बस वो थोड़े दिन ही रुककर चले जायंगे,
फिर तो आशा की किरण चमकने ही लगेगी ।

12.उड़ने में बुराई नहीं हैं
आप भी उड़े लेकिन उतना ही जहाँ से
जमीन साफ़ दिखाई देती हो !

13.आप ईश्वर में तब तक विश्वास नहीं कर पाएंगे
जब तक आप अपने आप में विश्वास नहीं करते

14.अगर आप हाथ पर हाथ रखकर सही समय का इंतजार कर रहे हो
तो सही समय भी टांग पर टांग रख कर आपकी मेहनत का इंतजार कर रहा है.