greeting-card-happy-new-year-shayari

ग्रीटिंग कार्ड हैप्पी न्यू ईयर Shayari 2022

ग्रीटिंग कार्ड हैप्पी न्यू ईयर shayari 2022 – कुछ इस तरह से नव वर्ष 2022 की शुरुआत होगी, चाहत अपनों की सबके साथ होगी, न फिर गम की कोई बात होगी, न फिर गम की कोई बात होगी, क्योंकि नये साल में खुशियों की बरसात होगी..!

ग्रीटिंग कार्ड हैप्पी न्यू ईयर Shayari

greeting-card-happy-new-year-shayari-1

ये साल अगर इतनी मोहलत दिलवा जाए तो अच्छा हैं, ये साल अगर हमको हमसे मिलवा जाए तो अच्छा हैं। चाहे दिल की बंजर धरती सागर भर आंसू पी जाए ये साल मगर कुछ फूल नए खिल जाए तो अच्छा हैं..

सदा दूर रहो ग़म की परछाइयों से, सामना ना हो कभी तन्हाइयों से, हर अरमान हर ख़्वाब पूरा हो आपका, यही दुआ है दिल की गहराइयों से…

Happy New Year 2022 – कुछ इस तरह से नव वर्ष 2021 की शुरुआत होगी, चाहत अपनों की सबके साथ होगी, न फिर गम की कोई बात होगी, न फिर गम की कोई बात होगी, क्योंकि नये साल में खुशियों की बरसात होगी..

लमहा-लमहा वक़्त गुजर जाएगा, एक दिन बाद नया साल आएगा, आज ही आपको ‘हैप्पी न्यू इयर’ की विश कर दू, वरना बाज़ी कोई और मार जायेगा। हैप्पी न्यू ईयर इन एडवांस…

नयी उम्मीदों से भरा यह नया साल मुबारक हो, ख़ुशी की मस्तियों के यह चाल मुबारक हो। तुम्हारे ख्वाब सभी इस बरस में पुरे हो दुआएं दिल से तुम्हे, यह साल मुबारक हो…

एक खूबसूरती, एक ताज़गी, एक सपना, एक सच्चाई एक कल्पना, एक एहसास। एक आस्था, एक विश्वास यही हैं एक अच्छे साल की शुरुआत…

आई हैं बहारे, नाचे हम और तुम, पास आये खुशियाँ और दूर जाए ग़म। चारो तरफ नव बरस की खुशियाँ हैं छाई नव वर्ष 2021 की बहुत बहुत बधाई…….

अभी कुछ दूरियां तो कुछ फांसले बाकी हैं, पल-पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी है, हमें यकीन है कि कुछ ढूंढ़ता हुआ वो आयेगा ज़रूर अभी वो हौंसले और वो उम्मीदें बाकी हैं..

देखो नूतन वर्ष हैं आया, धरा पुलकित हुई गगन मुस्काया। किंचित चिंताओं में डूबा कल ढूँढ़ ही लेगा नया वर्ष कोई हल..

गणेश हरैं सब विघ्न आपके लक्ष्मी बैठैं दोनों हाथ। खुशियाँ आपके सदाँ कदम चूमैं तरक्की हो दिन रात। कान्हा आपको दें कामयाबी राधारानी दें आपको प्यार। नव वर्ष यह सब दे आपको यही दुआ हैं मेरी आज

इस साल आपको, वो सब मिले…! जो आपका दिल चाहता हो..

ये फूल ये खुशबू ये बहार ! तुमको मिले ये सब उपहार !! आसमा के चाँद और सितारे ! इन सब से तुम करो सृंगार !! तुम खुश रहों आवाद रहों.. खुशियों का हो ऐसी फुहार ! हमारी ऐसी दुआ हैं हजार !! दामन तुम्हारा छोटा पर जाए ! जीवन में मिले तुम्हे इतना प्यार

अभी कुछ दूरियां तो कुछ फांसले बाकी हैं, पल-पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी है, हमें यकीन है कि कुछ ढूंढ़ता हुआ वो आयेगा ज़रूर अभी वो हौंसले और वो उम्मीदें बाकी हैं…

अभी कुछ दूरियां तो कुछ फांसले बाकी हैं, पल-पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी है, हमें यकीन है कि कुछ ढूंढ़ता हुआ वो आयेगा ज़रूर अभी वो हौंसले और वो उम्मीदें बाकी हैं…

बीते साल को विदा इस कदर करते हैं, जो नहीं किया वो भी कर बैठते हैं, नए साल की आने की खुशियाँ तो सब मानते हैं, हम इस बार बीते साल की यादों का जश्न मानते हैं..

“शाखों पर सजता नये पत्तों का श्रृंगार, मीठे पकवानों की होती चारो तरफ बहार, मीठी बोली से करते, सब एक दूजे का दीदार, खुशियों के साथ चलो मनाये नव वर्ष इस बार.