emotional-status-in-hindi

☹️ इमोशनल स्टेटस इन हिंदी – Emotional Status In Hindi

☹️ इमोशनल स्टेटस इन हिंदी 😭 Emotional Status In Hindi 😢  Whatsapp Status In Hindi Girl Emotional & Boy Emotional Friendship Sad Dosto Agar Status Passand Aaye To Comment Kar Dena OK 👍 

इमोशनल स्टेटस इन हिंदी

Emotional-Status-Hindi

1.प्यार को कोई पैसे से नहीं खरीद सकता है
पर इसके लिये बहुत ही भारी कीमत चुकानी पड़ती है

2.कौन कहता कि… बचपन वापस नहीं आता… दो घड़ी माँ के पास तो बैठ कर देखो…,

3.भूल जाने का हौसला ना हुआ दूर रह कर भी वो जुदा ना हुआ उनसे मिल कर किसी और से क्या मिलते कोई दूसरा उनके जैसा ना हुआ!

4.सब फूलों की जुदा कहानी है
खामोशी भी तो प्यार की निशानी है
ना कोई ज़ख्म है फिर भी ऐसा एहसास है
यूँ महसूस होता है कोई आज भी दिल के पास है !!

5.बेनाम सा यह दर्द
वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मैं;
जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नही जाता;
मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा;
जाते है जिधर सब मैं उधर क्यूं नही जाता;
वो नाम जो बरसों से न चेहरा है न बदन है;

Emotional-Status-Hindi-boy

6.जिंदगी सुंदर है पर मुझे.
जीना नहीं आता, हर चीज में नशा है
पर मुझे. पीना नहीं आता,
सब मेरे बिना जी सकते हैं,
र्सिफ मुझे अपनों के बिना….
जीना नहीं आता….

7.गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है.
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है.

8.आँखों में मेरी कई लोगो ने पड़ा है ,
पिंजरे के पंछी सा दिल बेबस खड़ा है ,
आज़ाद होकर खुले आसमां में उड़ने को बेकरार है
किसी और का नहीं मुझे सिर्फ तेरा ही इंतेज़ार है ..

9.न समझो के हमने आपको भुला रखा है
आप नही जानते के दिल में छुपा रखा है
देखते रहे तुम्हें उमर भर इन आंखों में
इसलिए नज़रों के सामने आइना लगा रखा है

10.चाँद निकलेगा तो दुआ मांगेंगे;
अपने हिस्से में मुकदर का लिखा मांगेंगे;
हम तलबगार नहीं दुनिया और दौलत के;
हम रब से सिर्फ आपकी वफ़ा मांगेंगे!

11.दर्द कागज़ पर मेरा बिकता रहा
मैं बैचैन था रातभर लिखता रहा !!
छू रहे थे सब बुलंदियाँ आसमान की
मैं सितारों के बीच, चाँद की तरह छिपता रहा !!
दरख़्त होता तो, कब का टूट गया होता
मैं था नाज़ुक डाली, जो सबके आगे झुकता रहा !!

12.बदले यहाँ लोगों ने,
रंग अपने-अपने ढंग से रंग मेरा भी निखरा पर,
मैं मेहँदी की तरह पीसता रहा !!
जिनको जल्दी थी, वो बढ़ चले
मंज़िल की ओर मैं समन्दर से राज गहराई के सीखता रहा !