Dil-se-khelne-wali-shayari

दिल से खेलने वाली शायरी Dil Se Khelne Wali Shayari 2022 Status Quotes

दिल से खेलने वाली शायरी Dil Se Khelne Wali Shayari 2022 Status Quotes मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है, बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है, मेरी आँखों में आँसू की तरह इक रात आ जाओ, तकल्लुफ़ से बनावट से अदा से चोट लगती है.

दिल से खेलने वाली शायरी

Dil-se-khelne-wali-shayari-1

बिखरे हुए दिल ने भी उसके लिए फरियाद मांगी,
मेरी साँसों ने भी हर पल उसकी ख़ुशी मांगी,
जाने क्या मोहब्बत थी उस बेवफ़ा में,
कि मैंने आखिरी फरियाद में भी उनकी वफ़ा मांगी !!

लौट आता हूँ वापस घर की तरफ… हर रोज़ थका-हारा,
आज तक समझ नहीं आया की जीने के लिए काम
करता हूँ या काम करने के लिए जीता हूँ।

🌹🍁🌳🌲🍃🌿🌸🎋🍂🎍🍀
कदम यूँ ही डगमगा गए रास्ते में,
वैसे संभालना हम भी जानते थे,
ठोकर भी लगी तो उसी पत्थर से,
जिसे हम अपना मानते थे !!

जाने किस मुकाम पर ले जाएगी तुझे, ये बेखुदी और तेरी दीवानगी,
ए दिल जज्बात को काबू में रख ले वरना,
बहुत तड़पाएगी तेरी आवारगी,…
🌹🍁🌳🌲🍃🌿🌸🎋🍂🎍🍀

प्यार में बेवफाई मिले तो गम न करना,
अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना,
वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे,
पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न कर सके,

ऐ सनम कभी प्यार मत करना, हो जाये तो इंकार मत करना,
निभा सको तो निभा देना,
लेकिन किसी की जिंदगी बरबाद मत करना !!!!

मेरे अल्फाजों से लोग
बात भी करते हैं,
वो कहते हैं अब तुम्हारे
अल्फाजों से आवाज आती है.

Dil Se Khelne Wali Shayari Status

न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई,
न वो 😟 वापस लोटी,
न मोहब्बत 💔 दोबारा हुई..
याद में नशा करता हूँ…. और नशे में याद करता हूँ.

बिखरे है अश्क कोई साज नही देता,
खामोश है सब कोई आवाज नही देता,
कल के वादे सब करते है,
मगर क्यू कोई साथ आज नही देता.  

न वो सपना देखो जो टूट जाये;
न वो हाथ थामो जो छूट जाये;
मत आने दो किसी को करीब इतना;
कि उसके दूर जाने से इंसान खुद से रूठ जाये।

Dil-se-khelne-wali-shayari-2

महोबत भी बड़ी अजीब चीज़ है,
कही कोई अपने प्यार से बोहत खुश है,
तो कही कोई अपने प्यार को कोस्ता है,
विश्वास करो यारो प्यार बड़ी दिलचसब चीज़ है.

दिल का तमाशा देखा नहीं जाता,
टुटा हुआ सितारा देखा नहीं जाता,
अपनी हीसे की सारी ख़ुशी आपको दे दूँ,
मुझसे आपका ये उदास चेहरा देखा नहीं जाता ||

तेरे बिना ज़िंदगी अधूरी है यारा
तुम मिल जाओ तो ज़िंदगी पूरी है यारा
तेरे साथ ज़िंदगी की सारी खुशिया
दुसरो के साथ हसना तो मज़बूरी है यारा ।।

मोहब्बत में लाखों ज़ख्म खाए हमने,
अफ़सोस उन्हें हम पर ऐतबार नहीं,
मत पूछो क्या गुजरती है दिल पर,
जब वो कहते है हमें तुमसे प्यार नहीं।

मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है,
बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है,
मेरी आँखों में आँसू की तरह इक रात आ जाओ,
तकल्लुफ़ से बनावट से अदा से चोट लगती है.

क्यूँ वो रूठे इस कदर कि मनाया ना गया,
दूर इतने हो गए कि पास बुलाया ना गया,
दिल तो दिल था कोई समंदर का साहिल नहीं,
लिख दिया जो नाम वो फिर मिटाया ना गया।

खता हो गई है जज्बात के साथ,
उनकी याद आती है हर बात के साथ,
खता कुछ भी नहीं महज़ इतनी है,
उनकी याद आती है हर बात के साथ ||

तेरे प्यार ने दीवाना किया है,
एक रोज़ दुनिआ छोड़ जायेंगे ||
तुम उस वक़्त याद करोगे हमे,
जब हम तुम्हे तनहा छोड़ जायेंगे ||

दिल से खेलने वाली शायरी 

हम हक्क चाहत का अदा करते है,
हम बेवफा से भी वफ़ा करते है ||
खुदा उन्हें सलामत रखे,
हम उनकी सलामती की दुआ करते है ||

टूट कर बिखर गए पैमानों की तरह,
वह हमे छोड़ गए बैगानो की तरह ||
हम दुआ करते रहे उनकी सलामती की,
वह हमे बददुआ दे गए बैगानो की तरह ||

बारिशों का क्या हैं, आजकल तो आँखों से बरसती हैं
तन्हाई में महफ़िल आखिर कहाँ सजा करती हैं
शंमायें भुझती हैं, और परवाने पिघलते हैं….
लोग तो रौशनी के लिए अपना दिल जलाये जाते हैं

Dil-se-khelne-wali-shayari-3

दिल देता है दुआ ये नयी पहचान बन कर,
दूर चले जाएंगे हम तेरी जिंदगी से एक उभरा हुआ दुफन बन कर।
खुश रहना तू हमेशा उसकी पनाह में।
जो बसा है तेरे दिल में तेरी पहचान बन कर।

तेरे शहर में आ कर बेनाम से हो गए,
तेरी चाहत में अपनी मुस्कान ही खो गए,
जो डूबे तेरी मोहब्बत में तो ऐसे डूबे,
कि जैसे तेरी आशिक़ी के गुलाम ही हो गए।

इस मोहब्बत की किताब के,
बस दो ही सबक याद हुए,
कुछ तुम जैसे आबाद हुए,
कुछ हम जैसे बरबाद हुए।

ऐ कलम जरा रुक रुक कर चल,
क्या गजब का मुकाम आया हैं।
थोड़ी देर ठहर जा उसे दर्द ना हो,
तेरी नोंक के नीचे उसका नाम आया हैं।

उनकी इस अदा से वो दिल को चुराते हैं,
हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को,
इसी उम्मीद में हम खुद को रुलाते हैं.

दिल की किताब में गुलाब उनका था,
रात की नींद में ख्वाब उनका था,
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा,
मर जायंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था

टूटा दिल और धड़कन को एहसास ना हुआ।
पास होकर भी वो दिल के पास न रहा।
जब दूर थी तो,जान थी मेरी।
आज जब हम क़रीब आये तो वो एहसास ना रहा।

बेस्ट दिल से खेलने वाली शायरी 2022

कितना अजीब है लोगों का
अंदाज़-ए-मोहब्बत
रोज़ एक नया ज़ख्म देकर कहते हैं
अपना ख्याल रखना।

बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,
आप खुश रहें, मेरा क्या है मैं तो आईना हूँ,
मुझे तो टूटने की आदत है।

बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,
आप खुश रहें, मेरा क्या है मैं तो आईना हूँ,
मुझे तो टूटने की आदत है।

मत रख हमसे वफा की उम्मीद ऐ सनम,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।

यूँ है सबकुछ मेरे पास बस दवा-ए-दिल नही,
दूर वो मुझसे है पर मैं उस से नाराज नहीं,
मालूम है अब भी मोहब्बत करता है वो मुझसे,
वो थोड़ा सा जिद्दी है लेकिन बेवफा नहीं।

वो करते है मोहब्बत की बात,
लेकिन मोहब्बत के दर्द का उन्हें एहसास नही,
मोहब्बत तो वो चाँद है जो दिखता तो है सबको,
लेकिन उसको पाना सबके बस की बात नही।