Dil-ko-rulane-wali-shayari

Top दिल को रुलाने वाली शायरी Status Quotes Messages 2022

Top दिल को रुलाने वाली शायरी Status Quotes Messages 2022 ! Dil Ko Rulane Wali Shayari ये क्या है जो आँखों से रिसता है, कुछ है भीतर जो यूं ही दुखता है, कह सकता हूँ पर कहता भी नहीं, कुछ है घायल जो यहाँ सिसकता है।

दिल को रुलाने वाली शायरीDil-ko-rulane-wali-shayari-1

जब मिलो किसी से
तो ज़रा दूर का रिश्ता रखना,
बहुत तड़पाते हैं अक्सर,
सीने से लगाने वाले।

सोचता रहा ये रातभर करवट बदल-बदल कर,
जाने वो क्यों बदल गया,
मुझको इतना बदल कर।

उजड़ जाते हैं सर से पाँव तक वो लोग,
जो किसी बेपरवाह से बे-पनाह मोहब्बत करते हैं।

कितना अजीब है लोगों का
अंदाज़-ए-मोहब्बत,
रोज़ एक नया ज़ख्म देकर कहते हैं
अपना ख्याल रखना।

दुआ नहीं तो ग़िला देता कोई,
मेरी वफ़ा का सिला देता कोई,
जब मुकद्दर ही नहीं था अपना,
देता भी तो भला क्या देता कोई।

टूट जायें ख़्वाब तो कोई आस क्या रखना,
पलकों के भीगने का हिसाब क्या रखना,
बस इसलिए मुस्करा देते हैं हम,
अपने दुःख से किसी को उदास क्या रखना।

दिल अमीर था मगर मुक़द्दर ग़रीब था,
मिल कर बिछड़ना तो हमारा नसीब था,
हम चाह कर भी कुछ कर न सके,
घर जलता रहा और समुन्दर क़रीब था।

किसी टूटे हुए दिल की आवाज़ मुझे कहिये,
तार जिसके सब टूटे हो वो साज़ मुझे कहिये,
मैं कौन हूँ और किसके लिए ज़िंदा हूँ,
मैं ख़ुद नहीं समझा वो राज़ मुझे कहिये।

Dil Ko Rulane Wali Shayari In Hindi

Dil-ko-rulane-wali-shayari-2

मोहब्बत की सज़ा बेमिसाल दी उसने,
उदास रहने की आदत सी डाल दी उसने,
मैंने जब अपना बनाना चाहा उसको,
बातों बातों में बात टाल दी उसने।

है प्यार मोहब्बत का सिला कुछ नहीं,
बस एक दर्द के सिवा मिला कुछ नहीं,
सारे अरमान जल कर ख़ाक हो गए,
लोग फिर भी कहते हैं जला कुछ नहीं।

मत सताओ हमें हम सताए हुए हैं,
अकेला रहने का ग़म उठाये हुए हैं,
खिलौना समझ कर न खेलो हम से,
हम भी उसी ख़ुदा के बनाये हुए हैं।

मेरे दर्द ने मेरे ज़ख्मों से शिकायत की है, आँसुओं ने मेरे सब्र से बगावत की है, ग़म मिला है तेरी चाहत के समंदर में, हाँ मेरा जुर्म है कि मैंने मोहब्बत की है।

कितना बेबस है इंसान क़िस्मत के आगे,
हर सपना टूट जाता है हक़ीक़त के आगे,
जिसने कभी दुनिया में हारना नहीं सीखा,
वो भी हार जाता है मोहब्बत के आगे।

दिल से रोये मगर होठों से मुस्करा बैठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे,
वो हमे एक लम्हा न दे पाए प्यार का,
और हम उनके लिए ज़िन्दगी लुटा बैठे।

तुम दिल में न समाते तो भुला देते तुम्हें,
तुम इतना पास न आते तो भुला देते तुम्हें,
ये कहते हुए कि मेरा ताल्लुक़ नहीं तुम से कोई,
आँखों में आँसू ना आते तो भुला देते तुम्हें।

तेरे बिना मैं यह दुनिया छोड़ तो दूं पर उसका दिल केसे दुखा दूं जो रोज दरवाजे पर खड़ी कहती है बेटा घर जल्दी आ जाना

मेरी फितरत में नहीं अपना गम बयां करना अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूं तो महसूस कर तकलीफ मेरी

ना कोई किसी से दूर होता है ना कोई किसी के करीब होता है प्यार खुद चल कर आता है जब कोई किसी का नसीब होता है

Dil Ko Rulane Wali Status

Dil-ko-rulane-wali-shayari-3

मुझे उससे कोई शिकायत नहीं शायद हमारी किस्मत में चाहत ही नहीं मेरे तकदीर को लिखकर खुदा भी मुकर गया पूछा तो बोला यह मेरी लिखावट ही नहीं

वक्त नूर को बेनूर कर देता है, छोटे से जख्म को नासूर कर देता है, कौन चाहता है अपने से दूर होना, लेकिन वक्त सबको मजबूर कर देता है !

जिंदगी हे सफर का सील सिला, कोइ मिल गया कोइ बिछड़ गया, जिन्हे माँगा था दिन रत दुआ ओमे, वो बिना मांगे किसी और को मिल गया.

रोती हुई आँखो मे इंतेज़ार होता है, ना चाहते हुए भी प्यार होता है, क्यू देखते है हम वो सपने, जिनके टूटने पर भी उनके सच होने का इंतेज़ार होता है

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके, कट गई उम्र किसी से प्यार न कर सके, तुने माँगा भी तो अपनी जुदाई मांगी, और हम थे की इंकार न कर सके!

देख कर उसको अक्सर हमे एहसास होता है, कभी कभी गम देने वाला भी बहुत ख़ास होता है, ये और बात है वो हर पल नही होता हमारे पास, मगर उसका दिया गम अक्सर हमारे पास होता है

एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जाएँगे हर एक रिश्ता इस ज़मीन से तोड़े जाएँगे जितना जी चाहे सतालो यारो एक दिन रुलाते हुए सबको छोड़ जाएँगे

पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती, दिल में क्या है वो बात नही समझती, तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है, पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती

जीना चाहता हूँ मगर जिदगी राज़ नहीं आती, मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती, उदास हु इस जिनदगी से, क्युकी उसकी यादे भी तो तरपाने से बाज नहीं आती

तुज़से दोस्ती करने का हिसाब ना आया, मेरे किसी भी सवाल का जवाब ना आया, हम तो जागते रहे तेरे ही ख़यालो मे, और तुझे सो कर भी हमारा ख्वाब ना आया

तुम आए ज़िंदगी मे कहानी बन कर, तुम आए ज़िंदगी मे रात की रानी बन कर, बसा लेते है जिन्हे हम आँखो मे, वो अक्सर निकल जाते है आँखो से पानी बन कर

Dil Ko Rulane Wali Quotes

Dil-ko-rulane-wali-shayari-4

ना मुस्कुराने को जी चाहता है, ना आंसू बहाने को जी चाहता है, लिखूं तो क्या लिखूं तेरी याद में, बस तेरे पास लौट आने को जी चाहता है |

एक दिन जब हम दुनिया से चले जायेंगे, मत सोचना आपको भूल जायेंगे, बस एक बार आसमान की तरफ देख लेना, मेरे आँसू बारिश बनके बरस आयेंगे

बेदर्द दुनिया में अभी जीना सीख रहा हूँ, अभी तो मैं दुखों के जाम पीना सीख रहा हूँ, कोशिश करूंगा तुम्हे मैं भी भुलाने की, अभी तो मैं तेरे झूठे वादों को भुलाना सीख रहा हूँ |

हर एक हसीन चेहरे में गुमान उसका था, बसा न कोई दिल में ये मकान उसका था, तमाम दर्द मिट गए मेरे दिल से लेकिन, जो न मिट सका वो एक नाम उसका था।

खुशियों से नाराज़ है मेरी ज़िन्दगी, बस प्यार की मोहताज़ है मेरी ज़िन्दगी, हँस लेता हूँ लोगों को दिखाने के लिए, वैसे तो दर्द की किताब है मेरी ज़िन्दगी।

नफ़रत करना तो हमने कभी सिखा ही नहीं, मैंने तो दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर।

लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर, मैंने दर्द की अपने नुमाईश न की जब जहाँ जो मिला अपना लिया, जो न मिला उसकी ख्वाहिश न की।

हम ने कब माँगा है तुम से अपनी वफ़ाओं का सिला, बस दर्द देते रहा करो मोहब्बत बढ़ती जाएगी ।

हकीकत में खामोशी कभी भी चुप नहीं रहती, कभी तुम ग़ौर से सुनना बहुत किस्से सुनाती है ।

मोहब्बत का मेरे सफर आख़िरी है, ये कागज कलम ये गजल आख़िरी है । मैं फिर ना मिलूँगा कहीं ढूंढ लेना, तेरे दर्द का ये असर आख़िरी है ।

चंद साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो, झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो, जिंदगी वीरान थी और मौत भी गुमनाम ना हो, मुझे गले लगा लो फिर मौत मुझे हजार दे दो।

Dil Ko Rulane Wali Messages

Dil-ko-rulane-wali-shayari-5

बेनाम सा यह दर्द ठहर क्यों नहीं जाता, जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नहीं जाता, वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में, जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नहीं जाता।

ना तस्वीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये, ना तुम हो मेरे पास जो प्यार किया जाये, ये कौन सा दर्द दिया है तुमने ऐ सनम, ना कुछ कहा जाये ना तुम बिन रहा जाये।

ना किया कर अपने दर्द को शायरी में बयान ऐ दिल, कुछ लोग टूट जाते हैं इसे अपनी दास्तान समझकर।

भुला कर हमें क्या वो खुश रह पाएंगे, साथ में नही तो मेरे जाने के बाद मुस्कुरायेंगे, दुआ है खुदा से की उन्हें कभी दर्द न देना, हम तो सह गए पर वो टूट जायेंगे।

दर्द होता है मगर शिकवा नहीं करते, कौन कहता है कि हम वफा नही करते, आखिर क्युँ नहीं बदलती तकदीर “आशिक” की क्या मुझको चाहने वाले मेरे लिए दुआ नहीं करते।

दर्द तो बहुत है दिल में पर दिखा नही सकते, करते है मोहब्बत तुमसे पर बता नही सकते।

ज़िन्दगी देने वाले यूँ मरता छोड़ गए, अपनापन जताने वाले यूँ तनहा छोड़ गए, जब पड़ी जरुरत हमें अपने हमसफ़र की, तो साथ चलने वाले अपना रास्ता मोड़ गए.

सीख रहा हूँ मै भी अब मीठा झूठ बोलने का हुनर, कड़वे सच ने हमसे, ना जाने, कितने अज़ीज़ छीन लिए।

जो नजर से गुजर जाया करते हैं, वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं, कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते, बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

एक हसरत थी कि उनके दिल में पनाह मिलेगी, क्या पता था उनसे मोहब्बत की सज़ा मिलेगी, न अपनों ने समझा न गैरों ने जाना, क्या पता था मेरी तक़दीर ही मुझे बेवफा मिलेगी।

ख्वाहिश तो ना थी किसी से दिल लगाने की, मगर जब किस्मत में ही दर्द लिखा था… तो मोहब्बत कैसे ना होती।

मोहब्बत का घना बादल बना देता तो अच्छा था, मुझे तेरी आँख का काजल बना देता तो अच्छा था, तुझे पाने की ख्वाइश अब जीने नहीं देती, खुदा तू मुझे पागल बना देता तो अच्छा था।

दिल को रुलाने वाली शायरी

Dil-ko-rulane-wali-shayari-6

कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता, हमारी हालत तुम्हारी होती, जो रात हमने गुज़ारी तड़प कर, वो रात तुमने गुज़ारी होती।

बहारों के फूल एक दिन मुरझा जायेंगे, भूले से कहीं याद तुम्हें हम आ जायेंगे, अहसास होगा तुमको हमारी मोहब्बत का, जब कहीं हम तुमसे बहुत दूर चले जायेंगे।

सजा कैसी मिली मुझको तुमसे दिल लगाने की, रोना ही पड़ा है जब कोशिश की मुस्कुराने की, कौन बनेगा यहाँ मेरी दर्द-भरी रातों का हमराज, दर्द ही मिला जो तुमने कोशिश की आजमाने की।

कागज की कश्ती से पार जाने की ना सोच, उड़ते हुए तूफानों को हाथ लगाने की ना सोच, ये मोहब्बत बड़ी बेदर्द है इससे खेल ना कर, मुनासिब हो जहाँ तक दिल बचाने की सोच।

दूर जाकर भी हम दूर जा न सकेंगे, कितना रोयेंगे हम बता न सकेंगे, ग़म इसका नहीं की आप मिल न सकोगे, दर्द इस बात का होगा कि हम आपको भुला न सकेंगे।

जख्म जब मेरे सीने के भर जाएंगे, आँसू भी मोती बन के बिखर जाएंगे, ये मत पूछना किसने दर्द दिया, वरना कुछ अपनों के चेहरे उतर जाएंगे।

दोस्त बन बन के मिले मुझको मिटाने वाले, मैंने देखे हैं कई कई रंग बदलने वाले, तुमने चुप रहकर सितम और भी ढाया मुझ पर, तुमसे अच्छे हैं मेरे हाल पे हँसने वाले।

कितना और दर्द देगा बस इतना बता दे, ऐसा कर ऐ खुदा मेरी हस्ती मिटा दे, यूं घुट घुट के जीने से तो मौत बेहतर है, मैं कभी न जागूं मुझे ऐसी नींद सुला दे।

धीरे धीरे से अब तेरे प्यार का दर्द कम हुआ, ना तेरे आने के खुशी ना तेरे जाने का गम हुआ, जब लोग मुझसे पूछते हैं हमारे प्यार की दास्तान, कह देता हूँ एक फसाना था जो अब खत्म हुआ

अपनी तो जिंदगी की अजब कहानी है, जिसे हमने चाहा वही हमसे बेगानी है, हँसता हूँ दोस्तों को हँसाने के लिए, वरना इन आँखों में पानी ही पानी है।

ये क्या है जो आँखों से रिसता है, कुछ है भीतर जो यूं ही दुखता है, कह सकता हूँ पर कहता भी नहीं, कुछ है घायल जो यहाँ सिसकता है।

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते, गम के आँसू न बहाते तो और क्या करते, उसने माँगी थी हमसे रौशनी की दुआ, हम अपना घर न जलाते तो और क्या करते।

दिल को रुलाने वाली शायरी 2022

Dil-ko-rulane-wali-shayari-7

मसला ये नहीं है कि दर्द कितना है, मुद्दा ये है कि परवाह किसको है।

टूटे हुए काँच की तरह चकना-चूर हो गया हूँ किसी को चुभ न जाऊँ इसलिए सबसे दूर हो गया हूँ।

लोग तो अपना बना कर छोड़ देते हैं, कितनी आसानी से गैरों से रिश्ता जोड़ लेते हैं, हम एक फूल तक ना तोड़ सके कभी, कुछ लोग बेरहमी से दिल तोड़ देते हैं।

मिले न फूल तो काँटों से जख्म खाना है, उसी गली में मुझे बार-बार जाना है, मैं अपने खून का इल्जाम दूँ तो किसको दूँ, लिहाज ये है कि क़ातिल से दोस्ताना है।

जब किसी का दर्द हद से गुजर जाता है तो समंदर का पानी आँखों में उतर आता है, कोई बना लेता है रेत से आशियाना तो, किसी का लहरों में सबकुछ बिखर जाता है।

टूटे हुए सपने को सजाना आता है, रूठे हुए दिल को मनाना आता है, उसे कह दो हमारे जख्म की फ़िक्र न करे, हमें दर्द में भी मुस्कुराना आता है।

अगर मैं लिखूं तो पूरी किताब लिख दूँ, तेरे दिए हर दर्द का हिसाब लिख दूँ, डरती हूँ कहीं तू बदनाम ना हो जाए, वरना तेरे हर दर्द की कहानी मेरा हर ख्वाब लिख दूँ।

खामोश फ़िज़ा थी कोई साया न था, इस शहर में मुझसा कोई आया न था, किसी ज़ुल्म ने छीन ली हम से हमारी मोहब्बत, हमने तो किसी का दिल दुखाया न था।

दिल पर ज़ख्म कुछ ऐसे मिले, फूलों पर भी सोया न गया, दिल तो जलकर राख हो गया, और आँखों से रोया भी न गया।

महफ़िल भी रोएगी हर दिल भी रोयेगा, डुबा कर मेरी कश्ती साहिल भी रोयेगा, इतना प्यार बिखेर देंगे दुनिया में हम, कत्ल करके हमारा कातिल भी रोयेगा।

वो खून बनके मेरी रगों में मचलता है, करूँ जो आह तो लब से धुँआ निकलता है, मोहब्बत का रिश्ता भी अजीब है यारों, ये ऐसा घर है जो बरसात में भी जलता है।

उदासी जब तुम पर बीतेगी तो तुम भी जान जाओगे, कोई नजर-अंदाज़ करता है तो कितना दर्द होता है।

दर्द के लम्हे कब हम पर आसान बने, जो दर्द आँसू न बन सके वो तूफ़ान बने।

कोइ इस दर्द-ए-दिल की दवा ला दो मुझे, किसी पे ऐतबार न करूँ वो हुनर सिखा दो मुझे, वैसे मैं हर एक खेल का शौक रखता हूँ, दिलों से खेलना भी कोई सिखा दो मुझे।

हर ज़ख्म किसी ठोकर की मेहरबानी है, मेरी ज़िन्दगी की बस यही एक कहानी है, मिटा देते सनम तेरे हर दर्द को सीने से, पर ये दर्द ही तो तेरी आखिरी निशानी है।

बेस्ट दिल को रुलाने वाली शायरी

Dil-ko-rulane-wali-shayari-8

नमक तुम हाथ में लेकर सितमगर सोचते क्या हो, हजारों जख्म हैं दिल पर जहाँ चाहो छिड़क डालो।

दर्द की शिद्दत से शर्मिंदा नहीं है मेरी वफ़ा, प्यार गहरा हो तो ज़ख्म भी गहरा देता है।

मत पूछ ज़िन्दगी कैसे गुजरती है तन्हाई में, आँखों से बरसते हैं आँसू उनकी जुदाई में, न जाने किस जुर्म की सजा मिली है मुझे, बहुत रोता है दिल मेरा उनकी बेवफाई में।

तुम्हें क्या बताये इश्क़ में मिलता है दर्द क्या… मरहम भी पिघल जाते हैं ज़ख्म की गहराई देखकर।

दिल का दर्द छुपाना कितना मुश्किल है, ग़म में मुस्कुराना कितना मुश्किल है, दूर तक जब चलो किसी के साथ, फिर तन्हा लौट के आना कितना मुश्किल है।

जाने क्या लिखा है मेरी हाथों की लकीरों में, मैं जहाँ भी जाता हूँ वहीं पर दर्द मिलता है।

चंद कलियों के मुस्कुराने से, दर्द जागे कई पुराने से, दो कदम मैं चल नहीं सकता, तू ही आ जा किसी बहाने से।

इलाज इश्क का क्या है हमें बताये कोई, जो दर्द दिल में उठा है उसे मिटाए कोई, तलाश उसकी मुझे हर जगह रहती है, मिलेगा मुझको कहाँ वो जरा बताये कोई।

न थी जिसको मेरे प्यार की कदर, इत्तेफ़ाक से उसी को चाह रहा था मैं, उसी दीये ने जलाया मेरे हाथ को, जिस को हवा से बचा रहा था मैं।

हर एक हसीन चेहरे में गुमान उसका था, बसा न कोई दिल में ये मकान उसका था, तमाम दर्द मिट गए मेरे दिल से लेकिन, जो न मिट सका वो एक नाम उसका था।

उसने दर्द इतना दिया कि सहा न गया, उसकी आदत सी थी इसलिए रहा न गया, आज भी रोती हूँ उसे दूर देख के, लेकिन दर्द देने वाले से ये कहा न गया।

दर्द हो तो कोई मौसम प्यारा नहीं होता, दिल में प्यास हो तो पानी से गुजारा नहीं होता, काश कोई समझ पाता हमारी बेबसी को, हम सबके हो जाते हैं कोई हमारा नहीं होता।

दर्द की दास्तान अभी बाकी है, मोहब्बत का इम्तेहान अभी बाकी है, दिल करे तो ज़ख्म देने आ जाना, दिल ही टूटा है जान अभी बाकी है।

हाथ ज़ख़्मी हुआ तो कुछ मेरी ही खता थी, लकीरों को बदलना चाहा था किसी को पाने के लिए।

दर्द दिल में है मगर मिलते हैं हर एक से हँसकर, यही एक हुनर आया है बहुत कुछ खोने के बाद।

तुझे जब देखता हूँ तो खुद अपनी याद आती है, मेरा अंदाज़ हँसने का… कभी तेरे ही जैसा था।

कुछ हार गई तकदीर
कुछ टूट गये सपने,
कुछ गैरों ने किया बरबाद\, कुछ भूल गये अपने।

बैठ के किसी का इंतज़ार करके देखना,
कभी तुम भी किसी से प्यार करके देखना,
कैसे टूट जाते हैं मोहब्बत के रिश्ते,
गलतियाँ कभी दो चार करके देखना।

प्यार कर के कोई जताये ये ज़रूरी तो नहीं,
याद कर के कोई बताये ये ज़रूरी तो नहीं,
रोने वाले तो दिल में ही रो लेते हैं,
कभी आँख में आँसू आये ये ज़रूरी तो नहीं।