desh-bhakti-shayari

Best 2021 देशभक्ति शायरी Desh Bhakti Shayari Status

देशभक्ति शायरी Desh Bhakti Shayari Best New Latest Heart Touching देशभक्ति शायरी Status Quotes SMS 2021 इश्क और वतन शायरी Share Shayari On Facebook Whatsapp वतन से मोहब्बत शायरी Desh Bhakti

Desh Bhakti Shayari

desh-bhakti-shayari-hindi

कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है,
हम लहराएंगे हर जगह..
ये तिरंगा नशा ये हिंदुस्तान की शान का है।
Happy Independence Day 🇮🇳

ना सरकार मेरी है ना रौब मेरा है,
ना बड़ा सा नाम मेरा है,
मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है,
मै हिन्दुस्तान का हूँ और हिन्दुस्तान मेरा है,
जय हिन्द 🇮🇳

खुशनसीव हैं वो जो
वतन पे मिट जाते हैं,
मर कर भी वो लोग
अमर हो जाते हैं,
करता हूँ तुम्हे सलाम
ऐ वतन पर मिटने वालो,
तुम्हारी हर सांस में बसना
तिरंगे का नसीव है।
जय हिन्द…!

गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा,
चमक रहा आसमान में देश का सितारा,
आजादी के दिन आओ मिलकर करें दुआ,
की बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा।

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा

जो देश के लिए शहीद हुए
उनको मेरा सलाम है
अपने खूं से जिस जमीं को सींचा
उन बहादुरों को सलाम है..

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए बस अमन से भरा यह वतन चाहिए जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये

 खून से खेलेंगे होली, अगर वतन मुश्किल में है सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नही !
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नही!!

इश्क और वतन शायरी

desh-bhakti-shayari-status

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

चैन ओ अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो!
लाल हरे में मत बांटो, इसे शान ए तिरंगा रहने दो

इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना,
रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना,
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने,
ऐसे तिरंगे को दिल में हमेशा बसाए रखना।

मैं भारत देश का हरदम अमित सम्मान करता हूं,
यहां की चांदनी मिट्टी का गुणगान करता हूं,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूं।

ना सरकार मेरी है ना रौब मेरा है,
ना बड़ा सा नाम मेरा है,
मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है,
मै हिन्दुस्तान का हूँ और हिन्दुस्तान मेरा है

गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा,
चमक रहा आसमान में देश का सितारा,
आजादी के दिन आओ मिलकर करें दुआ,
की बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा।

फ़िदा-ए-मुल्क होना हासिल-ए-क़िस्मत समझते हैं वतन पर जान देने ही को हम जन्नत समझते हैं

किन मंज़िलों लुटे हैं मोहब्बत के क़ाफ़िले इंसाँ ज़मीं पे आज ग़रीब-उल-वतन सा है

याद अपने वतन की मुझे आती नहीं अब तो
अब भूल चुका होगा मुझे मेरा वतन भी

शाम-ए-वतन कुछ अपने शहीदों का ज़िक्र कर जिन के लहू से सुब्ह का चेहरा निखर गया   बहुत अज़ीज़ है अपने वतन की ख़ाक हमें जो ख़्वाब आँखों में आया वो मोतबर आया

Best देशभक्ति शायरी Hindi

army-desh-bhakti-shayari

मेरी हर एक सांस # तिरंगे के नाम है
# मेरे वतन का # हर एक नागरिक
# भारत का स्वाभिमान है # वन्दे मातरम्

 आज नशा # तिरंगे की आन का है
# थोड़ा सा # हिंदुस्तान की मिट्टी का
भारत में लहरेगा तिरंगा # यह
# हिंदुस्तान का पैगाम है # जय भारत मां

तिरंगा मेरी शान है # हिंदुस्तान की आन है
# भारत की आजादी के लिए शहीद होने
वाला # सचा हिन्दुस्तानी है # indian है

चलो फिर से खुद को जगाते है अनुशासन का डंडा फिर से घुमाते है,
सुहाना रंग है वीर तिरंगे का,
शहीदों के लहू से,
चलो शहीदों के लिए सिर झुकाते है

भारत का वीर जवान हूं ना हिन्दू हूं ना मुस्लिम हूं
झखमो से भरा सिना है
पर दुश्मनों के लिए चट्टान हूं में,
क्योंकि भारत का वीर जवान हूं में

उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई उनकी शहादत का कर्ज देश पर उधार है
आप और हम इसलिए खुशहाल है
क्योंकि सीमा पर जवान सहादत के लिए तैयार है

दे सलामी इस तिरंगे को जिसमे तेरी शान है,
सर हमेशा ऊंचा रखना इसका
जब तक सीने में जान है

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी व्यर्थ नहीं होने देंगे
बची हो जब एक बूंद गर्म लहू की
तब तक भारत की आजादी पर आंच न
आने देंगे

वो तिरंगे वाली DP हो‌ तो लगा
लेना भाई जी सुना है कल देशभक्ति
दिखने वाली तारीख है!!

अलग है धर्म, जात , भेष , परिवेश पर सबका एक है गौरव तिरंगा सर्वश्रेष्ठ !!

देशभक्ति शायरी

hindi-desh-bhakti-shayari

फिर उड़ गई नींद मेरी यह सोचकर की शहीदों का जो खून बहा था
वो मेरी और आपकी नींद के लिए था !!

 बस यह बात हवाओं को बताए रखना
रोशनी होगी चिरागो को जलाए रखना
लहू देकर भी जिसकी हिफाजत की शहीदों ने
उस तिरंगे को सदा दिल में बसाए रखना!!

इश्क तो करता है हर कोई
महबूब पे तो मरता है हर कोई
कभी वतन को महबूब बना के देखो
तुझ पे मरेगा हर कोई

कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है….

उनके हौंसले का मुकाबला ही नहीं है कोई
जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है
आज हम इसीलिए खुशहाल हैं क्यूंकि
सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है….

वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है,
मरेगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं!

लुटेरा है अगर आजाद तो अपमान सबका है,
लुटी है एक बेटी तो लुटा सम्मान सबका है,
बनो इंसान पहले छोड़ कर तुम बात मजहब की,
लड़ो मिलकर दरिंदों से ये हिंदुस्तान सबका है।

अधिकार मिलते नहीं लिए जाते हैं
आजाद हैं मगर गुलामी किये जाते हैं
वंदन करो उन सेनानियों को
जो मौत के आँचल में जिए जाते हैं

उड़ जाती है नींद ये सोचकर
कि सरहद पे दी गयीं वो कुर्बानियां
मेरी नींद के लिए थीं