बात_करने_का_हुनर_शायरी

बात करने का हुनर शायरी | Baat Karne Ka Hunar Shayari

बात करने का हुनर शायरी पाने में आपका बहुत बहुत स्वागत है किसी का हुनर अंदाज और होता है साहब  | Baat Karne Ka Hunar Shayari | बेहतरीन शायरी लोगों के दिलों में उतरने का हुनर आज…

बात करने का हुनर शायरी

baat-karne-ka-hunar-shayari

1

जमाने में आये हो तो जीने का हुनर रखना
दुश्मनों का कोई खतरा नहीं,
बस अपनों से बात करने का हुनर रखना

3

माना आज मैं कि पहुँच गया हूँ सफलता की ऊँचाइयों पर
लेकिन लोगों से बात करने का हुनर आज भी रखता हूँ

4

न जाने किस हुनर को शायरी कहते होंगे लोग
हम तो वो लिख़ रहे हैँ, जो किसी से कह नहीं पाते
की मेरा बात करने का हुनर कुछ और है

5

मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है,ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है,
देकर वो आपकी आँखों में आँसू,अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।