26-January-Shayari

26 January Shayari In Hindi 2021 | गणतंत्र दिवस | Republic Day

26 January Shayari 71वें गणतंत्र दिवस की  पूर्व संध्या पर, मैं देश और विदेश में बसे, भारत के सभी लोगों को, हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं। आज से सात दशक पहले, 26 जनवरी को, हमारा संविधान लागू हुआ था। उसके पहले ही इस तारीख का विशेष महत्व स्थापित हो चुका था। गणतंत्र दिवस Shayari 2021 |Republic Day shayari | SMS Quotes Status Images, 26 January

26 January Shayari In Hindi 2021

26-January-Shayari-In-Hindi


वो शमा जो काम आये अंजुमन के लिए,
वो जज्बा जो कुर्बान हो जाये वतन के लिए,
रखते है हम वो हौसले भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए।


देश भक्तो की बलिदान से
स्वतंत्रा हए है हम
कोई पूछे कोन हो
तो गर्व से कहेंगे
भारतीय है हम


गाँधी स्वप्ना जब सत्य बना,
देश तभी जब गणतंत्र बना,
आज फिर से याद करे वह मेहनत,
जो थी की वीरो ने और भारत गणतंत्र बना।


दे सलामी इस तिरंगे को,
जिस से तेरी शान हैं,
सिर हमेशा ऊंचा रखना इसका
जब तक दिल में जान है…।।
जय हिंद


स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
देशभक्तों से ही देश की शान है,
देशभक्तों से ही देश की शान है,
हम उस देश के फूल हैं यारो
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है..


मेरे देश का मान हमेशा बनाये रखूँगा,
दिल तो क्या जान भी इस पर न्योछावर करूँगा,
अगर मिले मौका देश के काम आने का,
तो बिना कफ़न के ही देश के लिए सो जाऊंगा।


26 January Shayari

लहराएगा तिरंगा अब सारे आस्मां पर
भारत का नाम होगा सब की जुबान पर
ले लेंगे उसकी जान या खेलेंगे अपनी जान पर
कोई जो उठाएगा आँख हमारे हिन्दुस्तान पर


दूध मांगोंगे खीर दे देंगे,
दूध मँगोगे खीर दे देगे
कश्मीर मांगने की सोची न,
भारत माता की कसम हर जगह से चीर देंगे|


ना जियो धर्म के नाम पर,
ना मरो धर्म के नाम पर,
इंसानियत ही है धर्म वतन का बस जियों वतन के नाम पर


अलग है भाषा धर्म जाट
और प्रान्त, भेष, परिवेश…
पर हम सब का एक है गौरव
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठा
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं ||


खून से लिखी कहानी है भारत के इतिहास की,
ये मेरी नहीं खुद भारत माता की जुबानी है,
मेरी तो छोड़ ही दो, भारत की आजादी के पीछे न जाने कितनों की कुर्बानी है।


ज़माने भर में मिलते है आशिक़ कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में लिपट कर, सोने में सिमट कर मरे है कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता.


तिरंगा हमारा है शान-ए-जिंदगी
वतन परस्ती है वफा-ए-जमी,
देश के लिए मर मिटना कुबूल है हमें,
अखंड भारत के स्वप्न का जुनून है हमें..!!
Happy Independence Day Shayari


वतन हमारा ऐसा ना छोड़ पाए कोई,
रिश्ता हमारा ऐसा ना तोड़ पाए कोई,
दिल हमारा एक है, एक है हमारी जान,
हिन्दुस्तान हमारा है और हम है इसकी शान।


तैरना है समुद्र में तेरो,
नदी नालों में क्या रखा हैं,
प्यार करना है तो वतन से करों,
इन बेवफा लोगों में क्या रखा हैं।


अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं,
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं.
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं


26 January Shayari In Hindi

दाग गुलामी का धोया है, जान लुटा कर लाए हैं
कितने दीप बुझा कर मिली है यह आजादी
फिर इस आजादी को रखना होगा आज हर एक दुश्मन से  बचाकर!!


नहीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना,
ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना,
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना,
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना,
हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के,
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के


मन में सारी बातें छिपाये रखना,
अगर कुछ तुम्हे अच्छा ना लगे तो मन में दबाये रखना,
क्योंकि हम भारत के वासी है,
वक़्त पर हम दिखा देंगे ज़माने को,
की देश हम जैसे जवान को है बचाये रखना…


काले गोरे का भेद नहीं,
इस दिल से हमारा नाता है,
कुछ और न आता हो हमको,
हमें प्यार निभाना आता है.
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं


चढ़ गये जो हंसकर सूली,
खाई जिन्होंने सीने पर गोली,
हम उनको प्रणाम करते हैं,
जो मिट गए देश के लिए,
हम उनको सलाम करते हैं।


मैं भारत बरस का हरदम अमित सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।


दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान है,
सर हमेशा ऊंचा रखना इसका जब तक दिल में जान है!!
पंद्रह अगस्त की शुभकामनाएं!!


बलिदानों का सपना जब सच हुआ,
देश तभी आजाद हुआ,
आज सलाम करे उन वीरों को,
जिनकी शहादत से ये भारत गणतंत्र हुआ।


26 January Shayari

असली गणतंत्र तभी बनता है जब संविधान कागज से निकलकर आम
लोंगो के जिंदगी में शामिल हो जाये।
आओ कुछ ऐसा कर दिखाएँ कि सब को हम पर मान हो जाये।
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!


तिरंगा हमारा है शान-ए-जिंदगी,
वतन परस्ती है वफ़ा-ए-जिंदगी,
देश के लिए मर मिटना कबूल है हमें,
अखण्ड भारत के स्वप्न का जूनून है हमें।


ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये