15-august-ki-desh-bhakti-shayari

15 अगस्त की देशभक्ति शायरी Status Quotes

15 अगस्त की देशभक्ति शायरी Best New Latest Shayari Status Quotes 2021 15 August Ki Desh Bhakti Shayari Hindi Happy Independence Day Very Heart Touching Shayari 

15 अगस्त की देशभक्ति शायरी

15-august-ki-desh-bhakti-shayari-hindi

ख़ुशी ख़ुशी गले लगाया था
शहीदों ने फांसी का फंदा
यूँ ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में

वतन की मोहब्बत, दिल में दबाये बैठे है,
मरेगे वतन के लिए
शर्त, शहादत से लगाये बैठे हैं!

चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा
यूँ ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में

वतन की सर बुलंदी में, हमारा नाम हो शामिल,
गुजरते रहना है हमको, सदा ऐसे मुकामो से।

जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो:
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो:
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

देश की हिफाजत मरते दम तक करेंगे
दुश्मन की हर गोली का हम सामना करेंगे
आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें
जय हिन्द !!

लड़े जंग वीरों की तरह,
जब खून खौल फौलाद हुआ |
मरते दम तक डटे रहे वो,
तब ही तो देश आजाद हुआ ||

ये दुनिया….एक दुल्हन
ये दुनिया….एक दुल्हन…दुल्हन के माथे पे बिंदिया
I Love My India

 लहराएगा तिरंगा अब सारे आसमान पर
भारत का ही नाम होगा सबकी जुबान पर
ले लेंगे उसकी जान या खेलेंगे अपनी जान पर
कोई जो उठाएगा आँख हिंदुस्तान पर

गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है
सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है
दिल से तुमको नमन हैं करते
ये आजाद वतन जो दिलाया है

इस वतन के रखवाले हैं हम
शेर ए जिगर वाले हैं हम
मौत से हम नहीं डरते
मौत को बाँहों में पाले हैं हम
वन्दे मातरम…

जब देश में थी दिवाली, वो झेल रहे थे गोली
जब हम बैठे थे घरों में, वो खेल रहे थे होली
क्या लोग थे वो अभिमानी
है धन्य वो उनकी जवानी

खींच दो अपने ख़ूँ से जमीं पर लकीर
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई
तोड़ दो अगर कोई हाथ उठने लगे
छू ना पाये सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियो
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो

जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो:
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो:
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

तेरे दामन से जो आये, उन हवाओं को सलाम
चूम लूँ मैं उस जुबां को जिस पे आये तेरा नाम
सबसे सुन्दर सुबह तेरी
सबसे सुन्दर तेरी शाम

तिरंगा है आन मेरी
तिरंगा ही है शान मेरी
तिरंगा रहे सदा ऊँचा हमारा
तिरंगे से है धरती महान मेरी

15 August Ki Desh Bhakti Shayari

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे,
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे,
बची हो जो एक बूँद भी लहू की तब तक,
भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे।

लहराएगा तिरंगा अब नीले आसमान पर,
भारत का नाम होगा सबकी जुबान पर,
ले लेंगे उसकी जान या दे देंगे अपनी जान,
कोई जो उठाएगा आँख हमारे हिन्दुस्तान पर।

खुशनसीव हैं वो जो
वतन पे मिट जाते हैं,
मर कर भी वो लोग
अमर हो जाते हैं,
करता हूँ तुम्हे सलाम
ऐ वतन पर मिटने वालो,
तुम्हारी हर सांस में बसना
तिरंगे का नसीव है।

वतन की मोहब्बत, दिल में दबाये बैठे है,
मरेगे वतन के लिए
शर्त, शहादत से लगाये बैठे हैं! ??

 न केशरिया मेरा है न हरा मेरा है
मेरा धर्म हिन्दुस्तानी है
पूरा तिरंगा मेरा है

हर मजहब से सिखा हमने पहले
देश का नारा
मत बाटो इसे एक ही रहने दो
प्यारा हिंदुस्तान हमारा

तहे दिल से सलाम हैं भारत के ऐसे
माई के लाल को
जिन्होंने अपनी मात्रभूमि के लिए
हस्ते हस्ते जान बलिदान कर दिया
भारत माता की जय

मेरी जान तु सदा जिंदाबाद रहे तू
ऐ मेरे प्यारे वतनआबाद रहे तू

शहीद हो गए जो ओढ़ तिरंगा
भारत मा की गोद में
फिर होंगे ये वीर पैदा
किसी भारत माँ की गोद से

दिलो से नफरतो को निकालो,
देश के इन गद्दारों को मारो,
ये देश है खतरे में ए -मेरे -देशवालो,
हिन्दुस्तान के सम्मान को बचा लो!!

 मेरे वतन का राष्ट्रगान बंगा से है
हमारे वतन की शान गंगा से है
जो वीर मर मिटे देश की मिटटी पर
उन शहीदों का अभिमान तिरंगा से है

हमें मालूम है
की इस रास्ते पर कदम कदम पर मौत है
फिर भी इस वतन की खिदमत का जूनून है
यह तुम्हारे इर्द गिर्द इसलिए इतना सुकून है
क्योकि इस हवा में हम जवानों का खून है

 न आरजू जन्नत की न ही मौत की फिक्र
चाहती है जिंदगी बस शहीदों में हो जिक्र

गरज उठे गगन सारा
समुन्दर छोड़े अपना किनारा
हिल जाये जहाँ सारा जब गूंजे
इंकलाब का नारा
भारत माता की जय

Hindi 15 August Ki Desh Bhakti Shayari

 कुछ नशा ये तिरंगे की आन का है
कुछ नशा मातृभूमि के मान का है
हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा
नशा ये हिंदुस्तान की शान का है
नशा ये हिंदुस्तान की शान का है

जो धर्म पे मर मिटा बस वही महान है
कारगिल का हर जवान देवता समान है
कारगिल का हर जवान देवता समान

मुझे ना तन चाहिए ना धन चाहिए
बस अमन से भरा ये वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहूं इस मातृभूमि के लिए
और जब मरूं तो तिरंगा कफन चाहिए.
जब मरूं तो तिरंगा कफन चाहिए

देश के रखवाले है हम,
शेर-ए-जिगर वाले है हम,
शहादत से हमें क्यों डर लगेगा,
मौत के बांहों में पाले हुए है हम.

देशभक्तों से ही देश की शान है
देशभक्तों से ही देश का मान है
हम उस देश के फूल है यारो
जिस देश का नाम हिन्दुस्तान है

दिन हमारे एक हैं एक ही है हमारी जान
हिन्दुस्तान हमारा है हम हैं इसकी शान
जान लुटा देंगे वतन पे हो जाएंगे कुर्बान
इसीलिए हम कहते हैं मेरा भारत महान

न दे दौलत न देश शोहरत.
कोई शिकवा नहीं हमको
झुका दूं सर में दुश्मन का
ये ही हिम्मत का धन देना अगर देना
तो दिल में देशभक्ति का चलन देना

तिरंगा है आन मेरी
तिरंगा ही है शान मेरी
तिरंगा रहे सदा ऊँचा हमारा
तिरंगे से है धरती महान मेरी जय हिन्द

 तैरना है तो समंदर में तेरो|
नदी नालों में क्या रखा है
प्यार करना है तो वतन से करो
इन बेवफा लोगों में क्या रखा है

मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,
कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,
मैं अमन पसंद हूँ,
मेरे शहर में दंगा रहने दो,
लाल और हरे में मत बांटो,
मेरी छत पर तिरंगा रहने दो।

कुछ हाथ से मेरे निकल गया,
वो पलक झपक के छिप गया,
फिर लाश बिछ गयी लाखों की,
सब पलक झपक के बदल गया।
जब रिश्ते राख में बदल गए,
इंसानियत का दिल दहल गया,
मैं पूछ पूछ के हार गया,
क्यूँ मेरा भारत बदल गया?

बड़े अनमोल हे ये खून के रिश्ते
इनको तू बेकार न कर,
मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई
घर के आँगन में दीवार ना कर।

दोस्ताना इतना बरकरार रखो कि,
मजहब बीच में न आये कभी,
तुम उसे मंदिर तक छोड़ दो ,
वो तुम्हें मस्जिद छोड़ आये कभी।