हालात_से_मजबूर_शायरी

हालात से मजबूर शायरी | मेरे हालात शायरी |

0

हालात से मजबूर शायरी | मेरे हालात शायरी | नया सवेरा एक नई किरण के साथ, नया दिन एक प्यारी सी मुस्कान के साथ, आपको नया साल मुबारक हो

हालात से मजबूर शायरी

haalaat-se-majaboor-shayari

1.बनकर एहसास मेरी धड़कन के पास रहती हो
बनकर तस्वीर मेरी आंखो के पास रहती हो
आज में अपने हालात से मजबूर हु
क्या मेरे बिना तुम भी उदास रहती हो !!

2.किसी को तकलीफ़ देकर मुझसे अपनी ख़ुशी की दुआ मत करना ,
आज में अपने हालात से मजबूर हु
अगर किसी को एक पल की भी ख़ुशी देते हो तो …
अपनी तकलीफ़ की फ़िक्र मत करना !!!

3.किसी की याद में रोते नहीं हम,
हमें चुपचाप जलना आ गया है,
गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,
हमें कांटों पे चलना आ गया है

4.किसी को बेवफा कहते नहीं हम,
हमें भी अब बदलना आ गया है,

5.कुछ लिख नही पाते, कुछ सुना नही पाते,
​​हाल-ए-दिल जुबान पर ला नही पाते, ​
वो उतर गए है दिल की गहराइयों मे,​वो समझ नही पाते
और हम समझा नहीं पाते!!

6.तेरे और मेरी मोहब्बत में बस 1 फर्क होगा सनम।।
तेरी कभी अधूरी नहीं होगी । और मेरी कभी पूरी नहीं होगी।।

7.हर रात रो-रो के उसे भुलाने लगे,
आंसुओं में उस के प्यार को बहाने लगे,
ये दिल भी कितना अजीब है कि,
रोये हम तो वो और भी याद आने लगे ।

8.हमसे पूछो क्या होता है पल-पल बिताना बहुत मुश्किल होता है
दिल को समझाना यार जिंदगी तो बीत जाएंगी
बस मुश्किल होता है कुछ लोगों को भूल पाना !!

0