बेवजह_गुस्सा_शायरी

बेवजह गुस्सा शायरी | इतना गुस्सा मत करो शायरी | 2021

बेवजह गुस्सा शायरी इतना गुस्सा मत करो शायरी जब तक तुम्हें न देखूं! दिल को करार नहीं आता!
अगर किसी गैर के साथ देखूं! तो फिर सहा नहीं जाता!हिंदी शायरी

कभी वो गुस्सा करती हैं,कभी हम गुस्सा करते हैं ।

भूल जाते हैं,हर बार,पर दोबारा वही किस्सा करते हैं ।।

इतना बेवजह गुस्सा शायरी

इतना_गुस्सा_शायरी

1 सफ़र मैं कोई दुबारा नहीं मिल सकता
अब दुबारा तेरी चाहत नहीं की जा सकती

ना तोल मेरी मोहब्बत को अपनी दिल्लगी से
देख आकर अक्सर मेरी मोहब्बत को तराजू टूट जाते है

आज दिल कर रहा था बच्चों की तरह रूठ ही जाऊ
पर फिर सोचा क्या फायदा मनाएगा कौन