insaaniyat

Best इंसानियत Shayari Status Quotes Messages

Best इंसानियत Shayari Status Quotes Messages & Poetry insaaniyat कुछ आग आरज़ू की उम्मीद का धुआँ कुछ, हाँ राख ही तो ठहरा अंजाम जिंदगी का।

इंसानियत Shayari Status Quotes

insaaniyat-1

जुगनुओं की रोशनी से तीरगी हटती नहीं,
आइने की सादगी से झूठ की पटती नहीं,
ज़िंदगी में गम नहीं फिर इसमें क्या मजा,
सिर्फ खुशियों के सहारे ज़िंदगी कटती नहीं।

यह ज़िन्दगी बस सिर्फ पल दो पल है,
जिसमें न तो आज और न ही कल है,
जी लो इस ज़िंदगी का हर पल इस तरह,
जैसे बस यही ज़िन्दगी का सबसे हसीं पल है।

हो के मायूस न यूं शाम से ढलते रहिये,
ज़िन्दगी भोर है सूरज सा निकलते रहिये,
एक ही पाँव पे ठहरोगे तो थक जाओगे,
धीरे-धीरे ही सही राह पे चलते रहिये।

जिंदगी उसी को आजमाती है,
जो हर मोड़ पर चलना जानता है,
कुछ पा कर तो हर कोई मुस्कुराता है,
जिंदगी उसी की है….
जो सबकुछ खो कर भी मुस्कुराना जानता है।

ज़िन्दगी एक हसीन ख़्वाब है,
जिसमें जीने की चाहत होनी चाहिये,
ग़म खुद ही ख़ुशी में बदल जायेंगे,
सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये।

जाने कब आ के दबे पाँव गुजर जाती है,
मेरी हर साँस मेरा जिस्म पुराना करके।

insaaniyat-2

कुछ आग आरज़ू की उम्मीद का धुआँ कुछ,
हाँ राख ही तो ठहरा अंजाम जिंदगी का।

ऐ ज़िंदगी काश तू ही रूठ जाती मुझसे,
ये रूठे हुए मुझसे मनाये नहीं जाते।

ग़ैरों से पूछती है तरीका निज़ात का
अपनों की साजिशों से परेशान ज़िंदगी।

थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ जिन्दगी,
मुनासिब होगा मेरा हिसाब कर दे।

सरे-आम ​मुझे ​ये शिकायत है ज़िंदगी से​,
​ क्यूँ मिलता नहीं मिजाज़ मेरा किसी से।

कितना मुश्किल है ज़िंदगी का ये सफ़र,
खुदा ने मरना हराम किया, लोगों ने जीना।